horror stroy in hindi | jinn ka bhayanak gussa

दोस्तो आज हम आपको बताने वाले है एक horror story in hindi के बारे मे जो एक jinn का भयानक गुस्सा के बारे मे हमारी आपसे यही प्राथना है इस story को पूरा पड़े तभी आपको इस kahani मे मजा आने वाला है तो आइये पड़ते है इस कहानी को।

horror stroy in hindi | jinn ka bhayanak gussa
horror stroy in hindi |


horror story in hindi | जिन्न का भयानक गुस्सा 



दोस्तो जैसा की आपने फिल्मों मे देखा होगा की सड़क के किनारे कुछ बच्चे भीख मागते है ये बच्चे पूरी तरह से अपाहिज होते है किसी बच्चे का हाथ नहीं होता है तो किसी बच्चे का पर या आँख नहीं होता है ऐसे बच्चे हमने आपने सड्को पर जरूर ही देखे होंगे। 



ये बच्चे पहले तो सही होते है लेकिन कुछ गलत लोग इन बच्चो ऐसा इसलिए बना देते है कि उनसे आसानी से भीख मगबाई जा सके। 


ऐसे ही एक बच्चे की कहानी हम आपको बताने जा रहे है जो बच्चा गलत लोगो दुवारा अगवा कर लिया जाता है और उसको अपाहिज बनाकर उससे भीख मगबाई जाती है। 


  • इस कहानी को सिर्फ आप अपने मनोरंजन के लिए पड़े ये कहानी किसी के जीवन और पात्र पर आधारित नहीं है। 

गाँव मे एक परिवार रहता है उसके परिवार मे एक पत्नी और 2 साल का बच्चा होता है जिसका नाम था ( कलपिनिक नाम ) बबलू। ये परिवार काफी गरीब था लेकिन फिर भी अपना जीवन सही से जी रहा था क्योकि उस परिवार का मुखियाँ उस परिवार को अच्छे से चला रहा था। 




बबलू उस समय पर काफी छोटा था वह अपने मस्ती मे लगा रहता था। परिवार का मुखियाँ एक धानमील फैक्टरी मे काम किया करता था। उस जगह पर जगह पर बहुत ज्यादा गंध उड़ा करती थी लेकिन परिवार का मुखिया इसलिए उस फैक्टरी मे काम किया करता था कि अपने बीबी बच्चे को अच्छे से अच्छे खाना खिला सके। 

horror stroy in hindi | jinn ka bhayanak gussa
horror stroy in hindi 




परिवार के मुखियाँ को उस फैक्टरी मे काम करते हुए 4 साल बीत गए थे। इस फैक्टरी मे काम करते करते बबलू के पिता का शरीर सूखता जा रहा था क्योकि इस फैक्टरी मे हद से ज्यादा गंदगी हुआ करती थी। 


एक बार बबलू के पिता की तबीयत खराब हो गई उन्हे तेज बुखार आने लगा था और साथ मे उल्टियाँ भी हो रही थी। एक अच्छे से डॉक्टर को उनको दिखाया गया तो डॉक्टरों ने उनके सभी जाँचे की और बताया की उनके फैपड़े और किडनियाँ दोनों खराब हो चुकी है और इनके इलाज मे लाखों रूपए का खर्चा आने वाला है। 



यह सुनकर बबलू की माँ के हाथ पर फूल गए और मन ही मन मे वह रोने लगी की अब इनके बाद उनके और उनके बच्चे का क्या होगा। बबलू की माँ ने जितना भी पैसा था सब अपने पति पर लगा दिया और अपना घर जमीन भी बेचकर भी लगा दिया horror stroy in hindi। 




लेकिन इतना सब कुछ करने के बाद भी बबलू के पिता जी नहीं बच पाये उनकी मौत हो गई। बबलू की माँ का इनसे आलाबा इस दुनिया मे और कोई नहीं था और उनके हाथ से घर जमीन भी हाथ से जा चुकी थी। माँ ने फिर भी हिम्मत नहीं हारी थी वह अपने बच्चे को लेकर शहर मे आकार सड़क किनारे रहने लगी थी उनको कोई न कोई मदद जरूर कर दिया करता था। 



ऐसे करके उनके खाने पीने का इंतजाम हो जाया करता था। एक सज्जन आदमी उनको मिला उसने एक जगह पर बबलू की माँ को काम दिला दिया और एक कमरा भी दिला दिया ताकि वह अच्छे से रह सके और कमा कर अपना पेट भी भर सके। 



उस समय पर बबलू की उम्र लगभग 6.5 हो चुकी थी। बबलू की माँ जब कमाने लगी तो बबलू का नाम एक स्कूल मे लिखा दिया बबलू रोजाना पड़ने जाता था और शाम के समय से पहले घर को आ जाता था। बबलू अब 8 साल का चुका था। बबलू की दोस्ती पड़ोस के कुछ बच्चो से हो गई थी जिससे कारण वह अपने घर से खाली समय मे खेलने आया करता था।



एक बार बबलू अपने दोस्तो के साथ खेल रहा था तभी एक अंजान आदमी बबलू के पास आया और उससे प्यार से बोलने लगा बबलू उस आदमी को अच्छा समझने लगा और उससे बातें भी करने लगा। उस आदमी ने बबलू के साथ तीन दिन तक सही ढंग से बात चीत की और बबलू का विश्वाश जीत लिया और चोथे दिन वह अंजान आदमी बबलू लिए एक खाने की चीज लाया।



उस चीज मे पहले से नशा मिला हुआ था वह चीज बबलू को प्यार से दिखा देता है और जब बबलू बेहोश हो जाता है तब उसको वह आदमी अपने कुछ सहयोगियों के साथ मिलकर बबलू को अपने साथ ले जाते है। जब तक बबलू को होश आता तब तक वह अपने आप को कही दूसरी जगह पाता है।


बबलू की माँ ने भी अपने बेटे को सभी जगह तालाशा लेकिन उसका कुछ भी पता नहीं चल पाया। बबलू की माँ ने फिर बाद मे पुलिस मे जाकर इसकी जानकारी दी तो पुलिस ने भी उसकी रिपोर्ट लिख ली लेकिन पुलिस भी कई दिनो तक उस बच्चे को तलाशती रही लेकिन उस बच्चे का कुछ पता नहीं चला।



बबलू उस अंजान जगह पर अपने आप देखता है तो रोने लग जाता है और अपनी माँ को पुकारने लगता है लेकिन जैसे ही वह चीखता है तो उसको उस जगह पर रहने वाले लोगो दुवारा मारा पीटा जाता है। बबलू को बहुत कम खाना दिया जाता है और साथ मे मारा पीटा भी जाता है।


बबलू उन सब का अत्याचार झेल रहा था लेकिन उसको इस जगह पर काफी दिन हो गए थे और वह दरिंदे मामला शांत होने का इंतजार कर रहे थे। बबलू की माँ भी बबलू की याद मे दुबली पतली हो गई थी क्योकि उसके सिवा इस दुनिया उसका का कोई नहीं था।


वह रोजाना एक काम करने लगी थी वह अपने बेटे के नाम से पूजा करने लगी थी ताकि वह जहा भी हो वह सलामत रहे। लेकिन के साथ उन दरिंदों ने गलत कर दिया था क्योकि बबलू को उस जगह पर रहते हुए काफी दिन हो गए थे और पुलिस का चक्कर भी खत्म हो गया था। इसलिए इन दरिंदों ने बबलू का एक हाथ और एक पर काट दिया था।



और बबलू से सड़क के किनारे वह दरिंदे भीख मागवाया करते थे। बबलू की तरह उन दरिंदों के पास कुछ और बच्चे भी थे उन बच्चो का भी उन्होने यही हाल किया था। बबलू को अब भीख मगने की आदत सी पढ़ चुकी थी और वह अपनी माँ को भी भूल गया था।


क्योकि उन सभी बच्चो को रात के समय मे मारा पीटा जाता था ताकि वह सभी बच्चे उन दरिंदों से डरे रहे और इनको कभी कभी खाना भी नहीं दिया जाता था। ये सभी बच्चे अपनी अपना काम कर रहे थे और अपने ऊपर हो रहे जुल्म को भी आसानी से सह रहे थे।



बबलू को भीख मागते मागते 2 साल हो गए थे और बबलू बड़ा भी हो गया था लेकिन बबलू की माँ ने अपनी रोजाना पूजा नहीं छोड़ी वह पूजा करने के बाद ईश्वर से सिर्फ अपने बेटे को सही सलामत पाने की कामना करती थी। अपने बच्चे की कुछ तसवीरों को देखकर रोया करती थी।




  • माँ का अटूट विश्वाश कभी खाली नहीं जाता और माँ के सामने ईश्वर को हारना पड़ता है 


ईश्वर की इतनी पूजा करने बाद भी माँ नहीं थकी थी तो ईश्वर को भी उस दया आ गई थी और उन पापियों को भी सजा देना का वक्त भी अब नजदीक आ चुका था। ईश्वर ने अपने सच्चे भक्त और एक सच्ची माँ के खातिर मैदान मे एक जिन्न उतार दिया। उस जिन्न को ईश्वर दुवारा उस जगह पर भेजा जा चुका था जहा पर बच्चो पर अत्याचार हो रहा था।

horror stroy in hindi | jinn ka bhayanak gussa
horror stroy in hindi 


यह जिन्न ईश्वर से आशीर्वाद लेता है और बबलू को आजाद कराने के लिए निकल पड़ता है। एक दिन रात का समय था और बच्चे सभी सो रहे थे तो जिन्न ने सबसे पहले बच्चो को गहरी नींद मे सुला दिया ताकि बच्चे उठ न जाए और न ही डर न जाये। बच्चे गहरी नींद मे सोते रहते है और अपने काम मे लग जाता है।




जिन्न एक भयनाक शैतान का रूप धारण कर लेता है जो कि एक यमराज से भी ज्यादा भयानक दिखाई देने लगता है और उन सभी पापियों के सामने आने लगता है। जिन्न को देखकर वहा रहने वाले लोग डर कर भागने लग जाते है लेकिन जिन्न उन्हे भागने नहीं देता है। जिन्न उन्हे बेदर्दी से मौत के घाट उतार देता है जैसे ही उस गरोह के मालिक को पता चलता है उसके सभी आदमी मारे जा चुके है वह भी कुछ आदमियो को साथ लेकर उसी जगह पर पहुच जाता है।



ये मालिक इस गरोह का मेन सरदार था इसकी कहने पर ही ये सब चल रहा था। जैसे ही ये उस जगह पर पहुचता है तो वह देखता है कि यहा पर एक भयानक शैतान मौजूद है इसने ही इस सभी को मारा है तो ये हथियार से उस जिन्न पर हमला करते है लेकिन जिन्न जिन्न तो था उस पर हथियारों का कुछ भी असर नहीं हो रहा था horror stroy in hindi।



जिन्न ने उन सभी साथ मे आए आदमियो को मारा और जो मालिक था उसको एक जगह पर रखा और तेजधार हथियार से उसका पहले तो हाथ काटा और बाद मे पर इस तरह से उस मालिक का पूरे शरीर के टुकड़े उस जिन्न ने किए ताकि आने वाले समय मे जिसको इस बात का पता चले तो ऐसी कुरुरता कोई और न कर सके।



उस जिन्न ने उन सभी को मार दिया जिन्होने बच्चो के साथ गलत किया था। जिन्न ने रात मे ही बच्चो को होश मे लाया और सबसे पहले बबलू को सही किया और बाद मे सभी बच्चो को जिन्न सही कर देता है। पुलिस को वह जिन्न बता देता है यहा पर ऐसा हुआ है।



जिन्न वहा से चला जाता है और कुछ समय बाद उस जगह पर पुलिस पहुच जाती है। उन सभी बच्चो को पुलिस दुवारा अपने अपने घर पहुचा दिया जाता है। बबलू की माँ को अपना बच्चा देखकर बहुत ज्यादा खुशी हुई थी उसने ईश्वर का धन्यबाद किया था। उस माँ की वजह से कितने बच्चो को आजादी मिल चुकी थी।



दोस्तो आपको ये horror story in hindi कैसी लगी हमे कमेंट मे जरूर बताए अगर आप इस तरह की कहानियाँ पड़ना पसंद करते है तो हमारे ब्लॉग का नाम ध्यान रखे और इस कघनी को आप अपने दोस्तो के साथ शेयर करना न भूले आपका दिन शुभ रहे। 

Post a Comment

2 Comments

  1. mujhe apki yah kahani bahut achi lagi thankyou so much for shearing this nice story thankyou

    ReplyDelete
    Replies
    1. thank you sir hamari kahani padne ke liye dhanyabaad

      Delete