2 Chudailo Ki Bhayanak Tufani Takkar | Bhoot Ki Kahani


नमस्कार दोस्तो bhoot ki kahani मे आपका बहुत बहुत स्वागत है जैसा की आप जानते है लोग भूत प्रेत की बात अक्सर करते रहते है ताकि भूत प्रेत के बारे मे जानने के लिए उनको कुछ नया सुनने को मिले। भूत होते है या नहीं ये एक पैचीदा मामला है लेकिन हम आपको एक कहानी के बारे मे बताने वाले है। जो ये कहानी काफी ज्यादा डरावनी है आइये पड़ते है इस कहानी को।


2 Chudailo Ki Bhayanak Tufani Takkar | Bhoot Ki Kahani
bhoot ki kahani








आज के जमाने मे ज्यादा जनसंख्या हो जाने के कारण जंगल और खेत खलियान कम होते जा रहे है। कुछ समय पहले की बात है जब हमारे देश मे ज्यादा जनसंख्या नहीं थी तब जंगल भी काफी थे और खेत खलियान भी बहुत ज्यादा हुआ करते थे। उस समय पर सर्दियाँ भी खूब पड़ा करती थी। ये कहानी उस कब्रिस्तान की है जहा से एक गाँव इस कब्रिस्तान के बहुत नजदीक था।




Read More:- ruhani bhatakti aatma ki bhoot ki kahani




इस कब्रिस्तान के पास रात मे जाने की किसी हिम्मत नहीं होती थी। दिन मे ही इस कब्रिस्तान के पास लोग जाया करते थे वो भी अपनी भैसे चाराने के लिए या फिर अपने खेतो मे काम करने के लिए। एक बार इस कब्रिस्तान के पास मे एक पागल महिला को छोड़ दिया जाता है। आपने भी देखा होगा की शहर या गाँव मे कभी पागल लोग नजर आने लगते है क्योकि इन लोगो को पागलखाने के लोग ही गाड़ियों से गाँव व शहर के आस पास छोड़ते है ताकि ये अपनी बची हुई जिंदगी इन गाँव या शहर के आस पास खाना मिलने से बिता ले।




कब्रिस्तान मे दाखिल हुई ये पागल महिला





ऐसे ही इस महिला को पगलखाने के लोगो ने उस कब्रिस्तान के पास मे छोड़ा था। उस समय पर सर्दी का समय चल रहा था कुछ दिन तो वह महिला इस कब्रिस्तान के आस पास रही लेकिन कुछ दिनो के बाद इस महिला को ठंड का एहसास हुआ तब ये महिला ठंड से बचने के लिए एक गरम जगह की तलाश करने लगी। इस कब्रिस्तान के पास मे एक खंडर की तरह एक कमरा बना हुआ था। ये कमरा काफी गंदा था और इस कमरे मे कुछ बांस और मिट्टी के कुछ बर्तन पड़े हुये थे।




Read More:- aatmao ki cheekh




ये महिला तो पागल थी इसलिए ये सब अच्छे से समझ नहीं प रही थी कि क्या गलत है और क्या सही। इस महिला ने सिर्फ ठंड से बचने के लिए उस कमरे को अपना सहारा बना लिया था। लेकिन उसको ये नहीं पता था कि ये कमरा आगे चलकर उसकी जान लेलेगा। ये महिला दिन मे भूख लगने के कारण इस कमरे से निकलती थी और शाम को जाकर उसी कमरे मे सो जाती थी।




इस कब्रिस्तान के पास के गाँव के लोगो को भी पता चल चुका था कि ये पागल महिला इस कब्रिस्तान के एक खाली कमरे मे रहती है। गाँव के कुछ लोगो ने इस महिला को उस कमरे से भगाने की लाख कोशिश की लेकिन ये महिला उस जगह से तश से मश नहीं हुई। हारकर उस महिला को गाँव के लोगो ने उसके अपने हालत पर ऐसा ही छोड़ दिया।




कुछ दिन बाद ये महिला खाना मागने के लिए गाँव मे नहीं आई और ये महिला चार दिनो तक इस कमरे मे बिना खाये पिये रह रही थी। तभी गाँव वालो को ये शक हुआ की कही वह पागल महिला मर तो नहीं गई। गाँव के कुछ इकट्ठा होते है और उस कब्रिस्तान की तरह राबाना हो जाते है जहा पर कब्रिस्तान के पास वह कमरा बना हुआ था।









जब गाँव के सभी लोग इस कब्रिस्तान के पास बने हुये कमरे के पास पहुचे तभी वह देखते है कि वह पागल महिला अजीब सी हरकत कर रही थी। जैसा कि उसके शरीर को किसी ने बंधी बना लिया हो और वह उससे छुटकारा पाना चाहती हो। गाँव के लोगो ने इस महिला को इस कमरे से निकालकर बाहर लिटा दिया लेकिन वह महिला वैसी ही हरकते करती जा रही थी। गाँव के लोगो ने सोचा की शायद इस महिला की तबीयत बिगड़ गई होगी तभी ये ऐसा कर रही है।




Read More:- 5 sal se computer me thi ek aatma




लोगो ने मिलकर एक डॉक्टर को बुलाया ताकि ये महिला फिर से पूरी तरह से ठीक हो सके। डॉक्टर ने कुछ दबाई दी और एक इंजेक्शन इस महिला को लगाया। जब तक बेहोशी की हालत मे ये महिला रही तब तक तो ये महिला सोती रही लेकिन जब दबाई का असर खत्म हुआ तब फिर से ये महिला वैसी ही हरकत करने लगी थी। कुछ लोगो ने इस महिला को पानी पिलाने की कोशिश की लेकिन ये महिला कुछ तो न तो खा रही थी नाही पानी पी रही थी।




चुड़ैल ने बनाया एक पागल महिला को अपना शिकार





दरअसल उस महिला की तबियत मे कोई परेशानी नहीं थी लेकिन महिला को एक चुड़ैल ने अपना शिकार बना रखा था। वह चुड़ैल उस पागल महिला के शरीर मे घुस चुकी थी इसलिए उसको दबाई का असर नहीं हो पा रहा था। गाँव के लोग इस बात को समझ पाते तब तक बहुत देर हो चुकी थी। वह महिला तड़प तड़प कर जब तक अपनी जान गवा बैठी थी।




नोट:- इस कब्रिस्तान मे एक खतरनाक चुड़ैल रहा करती थी जो इस कब्रिस्तान के आस पास मदराती रहती थी। ये चुड़ैल काफी ज्यादा खतरनाक थी इस चुड़ैल किसी को कोई नुकसान नहीं पाहुचाया था लेकिन वह पागल महिला उस कमरे मे रहने पर इस चुड़ैल का शिकार हो गई थी। इस चुड़ैल ने उस महिला के शरीर मे रहकर उसका खून पिया था और इसको खून अब मुंह लग चुका था।




  • गाँव के लोगो ने इस पागल महिला का अंतिम संस्कार किया वो सभी क्रियाए कराई गई जिससे उसकी आत्मा को शांति मिल सके।
  • गाँव वालो का इतना प्यार देखकर उस पागल महिला की आत्मा ने भगवान से सिर्फ इतना मागा की जरूरत पड़ने पर इन गाँव के लोगो की मुझसे जो सहायता हो सके तो मे कर सकु।
  • आत्मा कभी पागल नहीं होती आत्मा अमर है ये आतमाए अच्छी और बुरी हो सकती है।
  • गाँव के लोगो को अभी तक ये नहीं पता था कि इस पागल महिला की मौत एक चुड़ैल के कारण हुई है।




खूनी चुड़ैल के मुंह तो खून लग चुका था वह अपना नया शिकार तलाश रही थी। उस खूनी चुड़ैल ने गाँव की तीन महिलाओ को अपना शिकार बना लिया था और उनको इस चुड़ैल ने मौत के घाट उतार दिया था। जब तक गाँव वालो को इस चुड़ैल के बारे मे पता चला जब तक तीन महिलाए अपनी जान गवा बैठी थी।




बाद मे इस खूनी चुड़ैल ने एक 15 साल की बच्ची को अपना शिकार बनाने को सोचा और उसके शरीर मे ये चुड़ैल घुस गई। उस बच्ची के शरीर मे घुसकर उस बच्ची का भी खून धीरे धीरे पीने लगती है। गाँव के लोग जानते थे कि इस बच्ची पर भी उसी चुड़ैल का साया आ चुका है। गाँव के सभी लोगो ने इकट्ठा होकर ऊपर वाले से उस बच्ची के लिए प्राथना की और उस बच्ची की जान बचाने का भगवान के सामने निवेदन किया।




साथ मे ये भी प्राथना की इस खूनी चुड़ैल से इस गाँव को बचाया जाए। ये सब पागल महिला की आत्मा सुन रही थी। उस आत्मा ने भगवान से अपनी इच्छा जाहीर की और इस काम को करने के लिए भगवान से आशीर्वाद मांगा और अपने काम मे ये आत्मा लग गई।










ये आत्मा उस 15 साल की लड़की के शरीर मे घुसी और उस चुड़ैल से लड़ाई करने लगी। आत्मा ने सबसे पहले खूनी चुड़ैल को उस लड़की के शरीर से बाहर निकाला और चुड़ैल और वह आत्मा भयानक लड़ाई करने लगी। दोनों की शक्तियाँ एक दूसरे पर भारी पड़ रही थी लेकिन उस पागल महिला की आत्मा को भगवान का आशीर्वाद प्राप्त था इसलिए उस खूनी चुड़ैल पर वह आत्मा भारी पड़ती जा रही थी।




बहुत समय तक इन दोनों मे भिंडट होती रही आखिर मे वह आत्मा उस चुड़ैल को मरने मे कामयाब रही और उस गाँव को उस खूनी चुड़ैल से भी इस आत्मा ने मुक्ति दिला दी और खुद की आत्मा को भी मुक्ति मिल गई।




एहसान कभी खाली नहीं जाता है किसी की मदद करने से आपकी भी कभी कोई मदद कर सकता है। कुछ लोग तो ऐसे होते है आपने एक बार इनकी मदद कर दी तो अपनी जान देकर भी आपका एहसान उतारना चाहेंगे ऐसे भी लोग इस प्रथ्वी रहते है।




दोस्तो आपको ये bhoot ki kahani कैसी लगी हमे कमेंट मे जरूर बताए अगर आप इस तरह की कहानियाँ और भी पड़ना चाहते है तो हमारे ब्लॉग का नाम याद रखे आपका दिन शुभ रहे।





































Post a Comment

7 Comments