hindi horror stories | chhalava ka qahar bhag - 2 - Bhoot ki kahani- horror and scary stories in hindi

Sunday, June 9, 2019

hindi horror stories | chhalava ka qahar bhag - 2

hindi horror stories | छालावा का कहर भाग - 2 

दोस्तो अकसर आपने अपने परिवार के बड़े बुड़े सदस्यों के जरिये hindi horror stories को जरूर सुना होगा लेकिन हम आपको एक ऐसी kahani के बारे मे बताने जा रहे है जो बहुत जायदा darawni तो आइये पड़ते है इस hindi horror sory को। 
hindi horror stories | chhalava ka qahar bhag - 2

hindi horror stories

कुछ साल पहले इन 4 दोस्तो  के साथ एक darawni घटना घटी जो इन चार दोस्तो जिंदगी भर याद रहेगी। 



कुछ साल पहले 4 दोस्त अपनी पढ़ाई साथ कर रहे थे इनकी जान पहचान हॉस्टल मे हुई थी जहा पर ये लोग रहा करते थे। इन चारों दोस्त का नाम राहुल, अमित, अंगत और हिमांशु था। ये चारो दोस्त मिलजुल कर अपनी पढ़ाई कर रहे थे और साथ ही हॉस्टल मे एक ही कमरे मे रह रहे थे। इन सभी के परिवार आर्थिक रूप से काफी ज्यादा मजबूत थे तभी तो इनकी पढ़ाई अच्छे से करा पा रहे थे।  


एक बार इनके करीबी दोस्त के यहा पर शादी थी जो इनसे काफी ज्यादा दूर रहा करता था। कॉलेज से इन चार दोस्तो ने छुट्टियाँ ली ताकि वह अपने दोस्त के यहा शादी मे जा सके। इनका दोस्त लगभग 20 किलो मीटर  दूर रहा करता था। इन चारो ने अपनी एक कार ली और चारों उसी दोस्त की शादी के लिए रवाना हो गए। यह शादी रात की थी इसलिए यह लोग शाम के समय रवाना हो गए थे। लगभग 30 मिनट मे यह लोग उसी दोस्त के यहा पहुच गए थे।




इन चारों ने आधी रात भर पार्टी की और आधी रात को ही घर वापसी का प्लान बनाने लगे। जिस दोस्त के यहा शादी मे ये चारों दोस्त गए थे उसने भी कई बार सुबह जाने को कहा लेकिन इन्होने अपने उसी दोस्त से कहा की हमारा अभी जाना बहुत ही जरूरी है क्योकि हमे सुबह कॉलेज जॉइन करना है। उस दोस्त ने भी कह दिया अगर आपका जाना जरूरी है तो आप जा सकते है। 


ये चारों लोग अपने घर तरह आने के लाइक वहा से निकल जाते है। 10 किल मीटर के बीच मे हिमांशु का पेट खराब हो जाता है तो हार कर इनको वहा पर अपनी कार रोकनी पड़ जाती है। हिमांशु कार से उतर कर अपना पेट साफ करता है और कार मे दुवारा बैठ जाता है। कार को ये लोग चलाने लग जाते है और कुछ दूरी के बाद इन लोगो की कार के सामने एक साया सामने आ जाता है और ये लोग हढ़बड़ा जाते है। कार का ब्रेक जाम करके लग जाता है जिससे कार का संतुलन बिगड़ जाता है।
hindi horror stories | chhalava ka qahar bhag - 2


इनकी कार बार बार पलटने से रह जाती है और कार का इंजन पूरी तरह से बंद हो जाता है। ऐसे मे सभी लोग काफी ज्यादा दर जाते है। जब कार का इंजन पूरी तरह से बंद हो जाता है तो तो उस जगह पर पूरी तरह से सन्नाटा होता है और काफी ज्यादा अंधेरा भी इस जगह पर रहता है जिससे यह नजारा और भी ज्यादा darawna हो जाता है। इन लोगो का दिमाग भी ठीक तरह से काम भी नहीं कर पा रहा था कि इस तरह के संकट मे क्या किया जाए।





कार तो पूरी तरह से बंद हो चुकी थी राहुल कार चला रहा था वह बार बार प्रयास कर रहा था कि कार कैसे भी स्टार्ट हो जाए लेकिन कार स्टार्ट नहीं हो पा रही थी। उस समय पर सिर्फ इनके पास रह जाता है स्मार्ट फोन जो कि ये इनका इस्तेमाल टॉर्च जलाने के लिए करने लगते है। उस समय रात का 1 बज रहा था और ये लोग पूरी तरह से इस जगह पर फंस चुके थे। उस रोड पर कोई भी वाहन नहीं गुजर रहा था। रोड के कुछ दूरी पर एक अजीब आने लग जाती है ये आबाज ऐसी लगती है जैसे की कोई रो रहा हो यह आबाज काफी भारी भी थी।


यह लोग डरे हुये तो पहले ही थे लेकिन इस अजीब आबाज ने और भी ज्यादा इन्हे डरा दिया था। इस आबाज को चेक करने के लिए यह लोग उस आबाज को तलाशने लग जाते है जहा से यह आबाज आ रही थी। उन्होने काफी तलाशा की कोई वहा होगा जो इस तरह आबजे निकाल रहा होगा लेकिन यहा पर इन लोगो को कोई भी नहीं मिलता है। कुछ देर बाद आबजे आना बंद हो जाती है तब इन्हे थोड़ा सा शांति मिलता है लेकिन कुछ देर बाद इनके सामने से एक साया गुजरता है जो कि बहुत तेजी के साथ उनके सामने से गुजरता है ये लोग और भी ज्यादा डर जाते है और समझ भी जाते है कि आज हम बड़े संकट मे है। 
hindi horror stories | chhalava ka qahar bhag - 2


इन चारों लोगो को पता चल गया था कि आज हमारी जान भी जा सकती है तो चारों ने साथ मे इकट्ठा रहने को कहा और आपस मे प्रढ़ बनाया की आज कुछ भी हो जाए लेकिन हमे भागना नहीं है वल्कि इसी जगह पर डट के मुक़ाबला करना है। ये चारों लोग अपनी उसी कार मे बैठ जाते है और कार के सभी शीशे बंद करके लोक कर देते है। जब यह लोग इस कार मे बैठे थे तब उस समय रात का 2 बज रहा था ये लोग कार के अंदर से अपने घरवालो को फोन भी लगा रहे थे लेकिन इनका फोन नहीं लग पा रहा था। 


चारों दोस्त काफी ज्यादा परेशान हो गए थे इन्हे समझ मे नहीं आ रहा था कि आगे क्या किया जाये। रात का अंधेरा इतना था कि दूर दूर तक कोई नजर नहीं आ रहा था। कार के आस पास कुछ हलचले होने लगती है ऐसा लगता है जैसे कोई वंदा कार पर हिला रहा हो। ये लोग जब इस कार के चारों और अपने फोन कि टॉर्च देखते है तो इन्हे कोई भी नजर नहीं आ रहा था। ये और भी ज्यादा घबरा जाते है और एक दोस्त तो चीखने भी लगता है वह बहुत ज्यादा डर चुका था।

hindi horror stories | छालावा का कहर भाग - 2 


तीनों दोस्त उसको प्यार से साथ समझाते है अगर हम यहा से भागे तो सभी के सभी मारे जाएंगे। ये सभी लोग सिर्फ भगवान से प्रथना करने लगते है कि है भगवान हमारी रझा करो और इस परेशानी से हमे निकालो। ये लोग कार के अंदर से 4 बजे तक बाहर नहीं निकले 3.50 बजे तक उस अंजान शक्ति ने इन्हे परेशान किया था। जब सुबह के 4 बजे तब इस अंजान शक्ति ने इनका पीझा छोड़ा। ये लोग फिर भी डरे हुये थे ये लोग नहीं जानते थे इस अंजान शक्ति का समय चला गया और वह अंजान शक्ति भी वहा से चली गई है।


जब पूरी तरह से दिन निकल आया तभी इन लोगो ने सबसे पहले अपनी कार को स्टार्ट किया तब देखा की कार बड़ी आसानी से स्टार्ट गो गई और सभी फोन भी सही से काम करने लगे। तब इन लोगो को समझ मे आ जाता है की आखिरकार रात मे कोई अंजान शक्ति तो जरूर ही थी जो उनको मारना चाहती थी लेकिन हमारी एकता ने उस शक्ति को हरा दिया है। जैसे ही कार स्टार्ट होती है तो वैसे ही वह चारों दोस्त अपने घर के लिए रवाना हो जाते है।


दोस्तो उस अंजान शक्ति ने इनको पूरी रात अलग अलग भागने को मजबूर किया ताकि वह इन चारों को अपना शिकार बना सके लेकिन इन चारों ने समझदारी दिखाई और वहा से नहीं भागे और एकता बनाकर रहे यही उनकी सबसे बड़ी जीत थी।

दोस्तो आपको हमारी hindi horror stories कैसी लगी हमे कमेंट मे जरूर बताए अगर आप इस तरह की kahaniyan पड़ना पसंद करते है तो हमारी कहानियों अपने दोस्तो के साथ शेयर करना विलकुल भी न भूले आपका दिन शुभ रहे।

more stories


No comments:

Post a Comment