Ghost Stories| baccho ko bachaya ek jinn ne - Bhoot ki kahani

Saturday, April 6, 2019

Ghost Stories| baccho ko bachaya ek jinn ne

Ghost Stories | बच्चो को बचाया एक जिन्न ने 

दोस्तो जैसा की आप जानते है इस हाइटेक जमाने मे bhoot preto पर कोई करता लेकिन हम आपको बता दे कि कुछ ऐसी घटनाए हो जाती है जो हमे सोचने पर मजबूर कर देती है कि आखिर यह घटना कैसे हुई। दोस्तो हम आपको एक ऐसी ghost stories के बारे मे बताने जा रहे है जो एक ऐसी ही घटना है जो हमे सोचने पर मजबूर कर देती है आइये पड़ते है इस bhoot ki kahani को दोस्तो आपसे निवेदन है कि इस कहानी को पूरा पड़े तभी आपको यह कहानी अच्छी लगेगी।
Ghost Stories| baccho ko bachaya ek jinn ne
Ghost Stories



एक पहाड़ी के किनारे एक परिवार रहा करता था। यह परिवार छोपड़पट्टी डाल कर अपना जीवन गुजार रहा था। जहा यह परिवार रहा करता था यहा पर काफी ज्यादा तूफान आते थे और बहुत ज्यादा बारिश हुआ जरती थी। तेज तूफान के कारण यहा पर घर बनाना मुसकिल था क्योकि कुछ लोगो ने यहा पर पक्के मकान बनाए थे लेकिन तेज तूफान और भारी बारिश के कारण यहा पर मकके मकान ढह गए और साथ मे जो इस पक्के मकान मे रह रहे थे उन सभी की मकान मे दबकर मौत हो गई थी। 

इस लिए यहा पर रहने वाले पक्के मकान डर के मारे नहीं बना रहे थे वो छोपड़पट्टी डालकर रह रहे थे। जो परिवार यहा रह रहा था उस परिवार के मुखियाँ का नाम सीणु था। सीणु के परिवार मे पत्नी के अलाबा दो बच्चे भी थे। एक बच्चा 4 साल का था और दूसरा बच्चा 6 साल का था। दोनों बच्चे दोनों बच्चे अपने घर के आगन मे खेलते रहते थे। 6  साल का बच्चा कुछ ज्यादा ही शरारती था वह अपने घर से दूर जाकर खेलता था। बच्चे के माँ बाप को डर लगा रहता था कि उनका बच्चा पहाड़ी से नीचे नहीं गिर जाये इसलिए बच्चे को अपने घर से दूर जाने नहीं दे देते थे। 

बच्चे तो बच्चे होते है जब उसको मौका मिलता तब खेलने के लिए घर से दूर चला जाता था। इस पहाड़ी पर रह रहे लोगो को नहीं पता था कुछ दिन बाद यहा पर बहुत भयानक तूफान आने वाला है।

तूफान का कहर ghost stories

Ghost Stories| baccho ko bachaya ek jinn ne
Ghost Stories
कुछ दिन बाद आधी रात को एक भयानक तूफान आया। इस तूफान कि लहरे इतनी तेज थी कि इन तेज लहरों मे आदमी तो आदमी बड़ी से बड़ी भारी चीज भी नहीं टिक पा रही थी। यह तूफान सीणु और उसके परिवार को उड़ा ले जाता है और बाकी जो ओर लोग रह रहे थे सभी इस तूफान मे उड़ जाते है। सीणु और उसकी बीबी इस तूफान के कारण मारे जाते है और दोनों बच्चे तूफान मे उड़ कर पहाड़ी के नीचे एक गुफा के पास गिर जाते है। इन दोनों बच्चो को काफी गम्भीरे छोटे लगी थी लेकिन ये बच्चे जिंदा थे। 


दोनों बच्चे गंभीर चोट के कारण चिल्ला रहे थे लेकिन वहा उनकी आबज सुनने वाला कोई नहीं था जहा ये बच्चे पड़े थे वहा इंसान तो इंसान परिंदा भी पर नहीं मारता था। बच्चे उस जगह पर तीन दिन तक पड़े भूखे प्यासे पड़े हुये थे। ये बच्चे दर्द होने कारण रोते थे और रोते रोते बेहोश हो जाते थे। जहा ये बच्चे थे वहा पर एक बड़ी सी गुफा थी वहा पर एक जिन्न रहा करता था। इस जिन्न को इन बच्चो की रोने की आबज सुनाई दी तब यह जिन्न गुफा से निकल कर बाहर आया और देखता है वहा पर दो इंसानी बच्चे पड़े हुए है। 




वह जिन्न शैतानी जिन्न था उन बच्चो को देखकर उस जिन्न के मन मे आया की आज मेरा भोजन यही बच्चे बनेंगे। इन दोनों बच्चो को वहा से उठाता है और अपनी गुफा मे ले जाता है। उस समय पर ये दोनों बच्चे बेहोश थे इन बच्चो को कुछ होश नहीं था। जिन्न ने दोनों बच्चो को एक पत्थर की शीला पर रखता है एक धारदार हथियार से इन दोनों बच्चो को काटने जाता है जैसे ही जिन्न अपना हथियार इन दोनों बच्चो के शरीर पर मारता है तो आसमान से एक तेज गति से रोशनी आती है और दोनों बच्चो को घेरा बनाकर अपने कब्जे मे ले लेती है। 

बच्चो पर जिन्न बार बार हथियार से बार करता है लेकिन वह जिन्न बच्चो का कुछ नहीं बिगाड़ पाता है। जिन्न अपनी सारी शक्तिया लगा देता है और बच्चो का कुछ नहीं कर पाता है। जिन्न को इस बात पर हैरानी होती है कि आखिर ऐसा कैसे हो रहा है। जिन्न अपनी शक्तिओ दुवारा देखता है तो जिन्न को पता चलता है कि उन बच्चो कि रझा खुद ईश्वर कर रहे है। जिन्न को इस बात का पता चलते ही जिन्न ईश्वर से बार बार माफी मगता है। जिन्न के बार बार माफी मगने पर ईश्वर जिन्न को माफ कर देते है और उन बच्चो से अपना सुरझा कवज हटा लेते है। 

bhoot ki kahani baccho ko bachaya ek jinn ne




जिन्न को इस बात का अंदाजा हो गया था कि जब ईश्वर इन दोनों बच्चो की रझा खुद कर रहे है तो ये बच्चे कुछ खास तो है। सबसे पहले जिन्न अपनी शक्तिओ दुवारा इन दोनों बच्चो को स्वस्थ कर देता है फिर बाद मे इन बच्चो को दूध पीलाता है। 6 साल का बच्चा उस जिन्न को देख कर रोने लगता है तो जिन्न समझ जाता है ये बच्चा अपने माँ बाप के लिए रो रहा है तो जिन्न क्या करता है अपने शरीर से दो रूप बनाता है। यह दोनों रूप सीणु और उसकी पत्नी के थे। बच्चो को अंदाजा भी नहीं होता है ये असली मे उनके माँ बाप नहीं वल्कि एक जिन्न है। 

जिन्न इन दोनों बच्चो को अपने पास जब तक रखता है जब तक यह बच्चे जबान नहीं हो जाते। जिन्न ने इन दोनों बच्चो की फड़ाई कराई और शादी भी कराई उसके बाद जैसे बुड़े होकर माँ बाप मरते है उसी प्रकार जिन्न ने भी किया ताकि उन्हे ये सामान्य लगे। जब दोनों बच्चे खुशहाल जिंदगी गुजारने लगते है तो जिन्न अपनी जगह चला जाता है। जिन्न को इन दोनों बच्चो से इतना प्यार हो गया था कि कभी- कभी इन बच्चो वो देखने भी आता था लेकिन इस बात का दोनों बच्चो को पता नहीं चलता था।



दोस्तो आपको यह कहानी कैसी लगी हमे कमेंट मे बताए और इस तरह की ghost stories पड़ने के लिए हमारे ब्लॉग का नाम ध्यान रखे और अपने दोस्तो के साथ इस कहानी को जरूर शेयर करे। 



No comments:

Post a Comment