5 sal se ek computer me rah rahi thi ek aatma, horror story in hindi - Bhoot ki kahani

Saturday, April 6, 2019

5 sal se ek computer me rah rahi thi ek aatma, horror story in hindi

5 साल से एक कम्प्यूटर मे रह रही थी एक आत्मा, हॉरर स्टोरी इन हिन्दी 
5 sal se ek computer me rah rahi thi ek aatma, horror story in hindi
bhoot ki kahani 



नमस्कार दोस्तो आप सभी का हमारे ब्लॉग bhoot ki kahani मे बहुत बहुत स्वागत है दोस्तो इस दुनिया मे पता नहीं कौन सी कौन सी शक्तिया मौजूद है जिनका हमे अभी तक नहीं पता है। दोस्तो जब ईश्वर जब चमत्कार करे तो उस चमत्कार को देखकर हमे हैरानी भी होती है और विश्वश भी नहीं होता है कि आखिर यह घटना कैसे घटी है। हम आप सब अपने माता पिता से या दादी दादा से भूतो की कहानियाँ सुनते आए है। दोस्तो आज हम आपको एक ऐसी कहानी के बारे मे बताने जा रहे है जो एक aatma एक computer मे रहने लगती है और लोगो इसका पता काफी दिनो बाद लगता है। 


एक कम्प्यूटर पर साया था खतरनाक आत्मा का bhoot ki kahani

बताया जाता है कि साल पहले 42 साल की उम्र का एक आदमी एक छोटी सी कंपनी मे काम किया करता था। इस कंपनी मे एक साथ तीन कम्प्युटर ऑपरेटर बैठा करते थे और उस कंपनी के लिए काम किया करते थे जो 42 साल का आदमी इस कंपनी मे काम किया करता था उसका नाम था (काल्पनिक नाम) राकेश था। राकेश इस नौकरी को करने मे बहुत मजा आता था क्योकि राकेश कम्प्युटर चलाने के मामले मे सबसे सबसे बेहतर था और दोनों जो साथ मे काम किया करते थे वो दोनों राकेश को अपना गुरु मानते थे।


राकेश को कम्प्युटर से बहुत लगाव था और उसने घर पर काम करने के लिए एक लेपटोप भी खरीदा था ताकि कंपनी का बचा हुआ काम वो घर पर कुछ समय दे कर आसानी के साथ कर सके। राकेश को सोसल मीडिया पर ऑनलाइन रहना बहुत ही पसंद था। राकेश सभी सोसल प्लेटफॉर्म का उपयोग करता था जो अपने रिश्तेदारों और अपने दोस्तो से जुड़ा रह सके।


मौत का किसी को कोई भरोसा नहीं होता की कब आ जाए ऐसा ही राकेश के साथ हुआ। राकेश एक दिन अपनी कंपनी मे काम कर रहा था। दोनों लड़के राकेश के साथ काम कर रहे थे तभी राकेश को कुछ होने लगता है और धीरे- धीरे कुर्सी से नीचे गिरने लगता है। ऐसा देख राकेश के साथ के लोग डरने लगते है और जब राकेश तड़पने लगता है तो वो दोनों वहा से डर के मारे भाग जाते है। राकेश की तड़प- तड़प के मौत हो जाती है। जब तक वह दोनों लड़के लोगो बताते है जब तक राकेश की मौत हो जाती है।


पुलिस दोनों लड़को से पूझ ताझ करती है कि आखिर राकेश के साथ क्या हुआ था और राकेश मृत शरीर को पोस्टमार्टम को भेज देती है। पोस्टमार्टम कि रिपोर्ट मे यह पता चलता है कि राकेश कि मौत हार्टअटेक आने कि वजह से हुई है। जब इस बात कि खबर लोगो को लगती है कि राकेश कि मौत हार्टअटेक से हुई है तो सभी लोग उन दोनों लड़को को बहुत गाली देते है कि तुम्हें वहा नहीं चाहिए था वल्की आपातकालीन को सूचना देना चाहिए था। खेर यह बात 20 से 25 दिनो के अंदर खत्म हो जाती है और वो दोनों लड़के अपनी कंपनी मे काम करने के लिए चले जाते है और उसी कंपनी मे काम करने लगते है।


कम्प्युटर मे रह रही आत्मा का खेल

राकेश को कम्प्युटर से तो लगाओ ही था और उसकी मौत भी उसी कम्प्युटर पर हुई थी तो उसकी आत्मा उसी कम्प्युटर मे रहने लगी। वह दोनों लड़के अपने- अपने कम्प्युटर पर बैठकर काम किया करते थे लेकिन तीसरा कम्प्युटर जो था जो राकेश चलाता था उस कम्प्युटर पर एक नया लड़का रख लिया ताकि तीनों कम्प्युटर पर काम चलता रहे। दो दिन तक तो वह लड़का राकेश का कम्प्युटर चलाता रहा लेकिन दो दिन के बाद उस लड़के को भयानक भूतिया सपने आने लगे। 



रातों को उसे ऐसा लगने लगा था जैसे उसके साथ कोई और भी है और मेरे पास सो रहा है। उस नए लड़के की खटिया खड़ी हो जाती है कि आखिर मेरे साथ भूतिया घटना हो रही है। जब उस लड़के को पूरा भरोसा हो गया था कि उसके पीछे भूत पड़ चुका है तो उस लड़ने ने अपने घर मे अकेला सोना ही छोड़ दिया लेकिन इस भूतिया घटनाओ ने उसका पीछा नहीं छोड़ा। परेशान हो कर वह लड़का किसी ओझा बाबा के पास गया और उस ओझा बाबा ने उसको बताया की बेटा जिस कम्प्युटर पर तुम काम करते हो वह कम्प्युटर ही तुम्हारी परेशानी की जड़ है। 



ये सुनकर वह लड़का घर पर ही रहता है और उस कंपनी मे काम करने भी नहीं जाता है जब 15 दिन उस कम्प्युटर से दूर रहा तो वह लड़का सही हो गया और उसको किसी भी डरावनी चीज जैसे सपना या फिर एहसास आना भी बंद हो गया। इसी बीच जब यह लड़का काम करने नहीं जा रहा था तब जो राकेश के साथ वो लड़के काम किया करते थे। वह लड़के राकेश के कम्प्युटर पर बैठकर काम किया करते थे। ये सब इस लिए हुआ की कंपनी मे काम ज्यादा था तो दोनों ही इस तीनों कम्प्युटर को ओपरेट करना पड़ रहा था लेकिन इन दोनों लड़को को ये नहीं पता था कि इन दोनों कि रातो की नींद हराम होने वाली है। 5 sal se ek computer me rah rahi thi ek aatma, horror story in hindi.




ऐसा ही इन दोनों लड़को के साथ होने लगा। इन दोनों लड़को से राकेश की आत्मा नाराज थी तो इनको डराने मे और भी ज्यादा डोज़ दे रही थी। इन लड़को के सपने मे ही नहीं वल्की हकीकत मे भी राकेश की आत्मा दिखाई दे जाती थी। राकेश की आत्मा ने उन दोनों को इतना डराया की उन्हे अपनी गलती उस आत्मा से माफी मागनी पड़ी तब उस आत्मा ने उन दोनों लड़को को छोड़ा। राकेश की आत्मा उन दोनों लड़को को कोई नुकसान नहीं पहुचचाना चाहती थे सिर्फ उन दोनों लड़को को सबक सीखाना चाहती थी कि अगर फिर अगर किसी के साथ ऐसा होता है तो उसकी सबसे पहले मदद हो।

5 साल तक राकेश की आत्मा इस कम्प्युटर मे रही और इस कम्प्युटर पर डर वजह से 5 साल तक कोई नहीं चला पाया हार कर इस डेस्कटॉप को बाहर तोड़ कर फेकना ही पड़ा ताकि कोई और को नुकसान न पहुच सके। 



दोस्तो आपको यह कहानी कैसी लगी हमे कमेंट मे जरूर बताए अगर आप इस तरह की bhoot ki kahani पड़ना पसंद करते है तो हमारे ब्लॉग का नाम याद रखे और इस कहानी को अपने दोस्तो के साथ शेयर करना न भूले। 






No comments:

Post a Comment