cinderella ki zindagi me aaya ek jinn, cinderella story in hindi, सिंडिरेल्ला की कहानी - Bhoot ki kahani

Saturday, April 6, 2019

cinderella ki zindagi me aaya ek jinn, cinderella story in hindi, सिंडिरेल्ला की कहानी

cinderella ki zindagi me huya chamatkar, cinderella ki kahani, सिंडिरेल्ला की कहानी 


दोस्तो आप सभी का हमारे ब्लॉग मे बहुत बहुत स्वागत है हम आपको एक ऐसी लड़की की कहानी बताने जा रहे है जिसकी जिंदगी दौलत के भूखे लालची लोगो ने हराम कर राखी थी। आइये पड़ते है कहानी को। 
cinderella ki zindagi me aaya ek jinn, cinderella story in hindi, सिंडिरेल्ला की कहानी
cinderella story in hindi


एक बहुत बड़े परिवार मे सिंडिरेल्ला नाम की लड़की का जन्म होता है उसके परिवार मे सभी लोग रहा करते थे जैसे चाचा, चाची और भी अन्य सदस्य इस परिवार के साथ रहा करते थे। सिंडिरेल्ला अपने माता पिता की एक लोती बेटी थी। माता पिता अपनी बेटी से अपनी जान से ज्यादा प्यार किया करते थे। सिंडिरेल्ला को किसी बात की कोई भी परेशानी नहीं थी। यह लड़की धीरे धीरे बड़ी होती गई और इसकी उम्र 10 साल हो गई थी। एक दिन सिंडिरेल्ला के माता पिता कही रिश्तेदारी मे जा रहे थे और घर के सभी सदस्यो से कह गए थे कि हमारी बिटिया का खयाल रखना हम हम कल को वापस आ जाएंगे। 

यह कहकर सिंडिरेल्ला को छोड़ कर उसके माता पिता रिश्तेदारी मे जाने के लिए रवाना हो जाते है तभी रास्ते मे सिंडिरेल्ला के माता पिता कि मौत एक एक्सीडेंट मे हो जाती है। जब इस बात का पता सिंडिरेल्ला को चलता है तो वो बेचारी बिलख बिलख कर रोने लगती है और अपने माता पिता को याद करती है। सिंडिरेल्ला को अपने माता पिता कि मौत का सदमा एक महीने तक रहा और धीरे धीरे इस बात को भूलने भी लगी थी। इस प्रकार सिंडिरेल्ला कि उम्र 11 साल हो गई थी और अपने माता पिता को भूल चुकी थी। सिंडिरेल्ला स्वभाव मे बहुत सीधी थी। वह किसी से कुछ नहीं कहा करती थी और अपनी मस्ती मे रहा करती थी। 



bhoot ki kahani:-

 एक बार सिंडिरेल्ला अपने घर से घूमने के लिए बाहर कि और आ जाती है और तीन घंटे के बाद घर पर आती है। यह बात उसके चाचा को बहुत ही बुरी लगती है। चाचा सिंडिरेल्ला की पिटाई बेदर्दी से करता है और मारता ही चला ही जाता है। लड़की चीख रही थी चाचा मुझे छोड़ दो अब नहीं जाऊँगी घर से बाहर लेकिन चाचा उसकी बात नहीं मान रहा था और मारता ही जा रहा था। जब सिंडिरेल्ला का चाचा थक जाता है तब उसको मारना बंद करता है। लड़की के शरीर पर नीले निशान पद गए थे और लड़की अपने कमरे मे रो रही थी और अपने माता पिता को याद कर रही थी। सिंडिरेल्ला का चाचा सगा चाचा नहीं था वह दूर का रिश्तेदार था सिंडिरेल्ला के पिता ने इसको अपने घर मे शरण दी थी। चाचा किसी तरह लड़की की दौलत हासिल करना चाहता था और वह कुछ भी कर सकता था। cinderella ki zindagi me aaya ek jinn, cinderella story in hindi, सिंडिरेल्ला की कहानी। 

कुछ दिन बाद सिंडिरेल्ला के चाचा का अत्याचार बढ़ता जा रहा था वह जरा जरा सी बात पर सिंडिरेल्ला को मारा करता था और घर का सारा काम करवाया करता था। सिंडिरेल्ला अपने चाचा से इतना डरने लगी थी कि अपने चाचा कि एक डांट मे सहम जाती थी। सिंडिरेल्ला को सारा घर का काम खुद करना पड़ता था और सबके लिए खाना बनाना, साफ सफाई और कपड़े भी धोने पड़ते थे। इस चीज कि आदत सिंडिरेल्ला हो गई थी वो रोजाना अपने घर का काम किया करती थी। सिंडिरेल्ला की उम्र 17 साल हो चुकी थी और उसके चाचा को सिंडिरेल्ला की 18 साल उम्र होने का इंतजार था। सिंडिरेल्ला के साथ उसका चाचा 18 साल की उम्र के बाद कुछ भी कर सकता था। 



लड़की 18 साल की होने वाली थी उसका चाचा प्लान बना रहा था कि इसकी सारी जायदात कैसे हासिल की जाए। किसी ने सिंडिरेल्ला को मार के कागज पर अंगूठा लगाने की बात कही तो किसी ने कागज पर अंगूठा लगाने के बाद सिंडिरेल्ला को घर से बाहर निकालने की बात कही। कुछ दिन बाद सिंडिरेल्ला के साथ ऐसा ही होता किसी बहाने से सिंडिरेल्ला के अँगूठो के निशान ले लिए जाते है और सिंडिरेल्ला को घर से बाहर निकाल दिया जाता है। सिंडिरेल्ला को घर से बाहर निकालने पर सिंडिरेल्ला दर दर भटकने लगती है और एक घने जंगल मे पहुच जाती है। वह बुरी तरह से जंगल मे फंस कर रह जाती है और भूख लगने पर हरे पत्ते और घाँस को अपना खाना बनती है क्योकि उस घने जंगल मे तो खाने के लिए कुछ नहीं था। जंगल मे रहकर सिंडिरेल्ला ने जमीन मे बने गद्दे मे अपना घर बना लिया था जिससे की खतरनाक जानवरो से बच सके। 

सिंडिरेल्ला घर से बाहर कभी भी नहीं गई और ईश्वर ने उसे कहा पाहुचा दिया लड़की को जंगल मे रह कर सही खाना न मिलने पर उसकी तबीयत खराब होने लगी और सिंडिरेल्ला बीमार पड़ने लगी। जंगल मे रात के समय मे इतनी ठंड पड़ा करती थी कि लड़की का शरीर कपकापने लगता था उसके पास पहनने के लिए कपड़े भी नहीं थे। सिंडिरेल्ला उस जंगल मे इतनी बीमार हो गई कि उससे ठीक से खड़ा भी नहीं हुआ जा रहा था। 

ईश्वर का चमत्कार 




horror story in hindi:- जब लड़की की बहुत ज्यादा तबीयत खराब हो गई और एक जगह ही भूखी प्यासी पड़ी रहती थी और ऐसा लग रहा था कि उसका बचना नामुमकिन है और तभी वहा से एक साधू गुजर रहा था जो कई साल से इस जंगल मे तपश्या कर रहा था साधू ने देखा कि इस घने जंगल मे परिंदा भी पर नहीं मारता है तो यहा पर यह लड़की क्या कर रही है। साधूँ ने उस लड़की को उठाकर अपने साथ ले जाता है और अपनी कुठिया मे उसका इलाज करता है लड़की कि हालत धीरे धीरे सुधरने लगती है और कुछ डीनो बाद पूरी तरह से ठीक हो जाती है उस लड़की के ठीक होने पर साधूँ उस लड़की से पूझता है कि बेटी तुम इस घने जंगल मे कैसे आ गई तो लड़की अपने ऊपर बीती कहानी उस साधूँ को सुनाती है साधूँ कि आँखों से आंशू निकाल पड़ते है जब इस लड़की कि कहानी सुनता है। साधूँ लड़की से कहता है कोई बात नहीं अब डरो मत अब तुम्हारे साथ सब कुछ ठीक होगा। cinderella ki zindagi me aaya ek jinn, cinderella story in hindi, सिंडिरेल्ला की कहानी।
cinderella ki zindagi me aaya ek jinn, cinderella story in hindi, सिंडिरेल्ला की कहानी
cinderella story in hindi
ये साधूँ था इस साधूँ को दिवय शक्तिओ का ज्ञान था क्योकि यह साधूँ कई साल से इस जंगल मे तपश्या कर रहा था असलियत तो यह थी कि इस लड़की कि मदद करने के लिए खुद ईश्वर ने इसको भेजा था। साधूँ अपने मंत्रो तंत्रों कि शक्ति से सिंडिरेल्ला के चाचा का हाल चाल देखता है और अपनी शक्ति से एक जिन्न को बुलाता है और जिन्न से कहता है यह जो लड़की है इसके माता पिता बचपन मे ही मर गए इसका का ख्याल तुम्ही को करना है और इसकी सारी परेशानी तुम्हें ही हटानी है। सिंडिरेल्ला के पास जब जिन्न पाहुचता है तो सिंडिरेल्ला jinn को देखकर डर जाती है तभी साधूँ वहा पर पहुच जाता है और सिंडिरेल्ला को समझता है कि आज के बाद तुम्हारी रंझा यह जिन्न करेगा। 




साधूँ यह सब कहकर जिन्न और सिंडिरेल्ला को अपने घर जाने के लिए कहता है और वहा से चला जाता है। जिन्न कहता है कि हुकम करो मेरी मालिक तो इस पर सिंडिरेल्ला जबाब होता है कि तुम मुझे मालिक नहीं बुलाओगे तो जिन्न कहता है तो क्या नाम से तुम्हें पुकारु तो सिंडिरेल्ला कहती है कि मेरा कोई भी भाई नहीं है तुम मुझे अपनी बहन कहकर बुला सकते हो। जिन्न सिंडिरेल्ला कि बात को मान लेता है और छोटी बहन कहकर पुकारता है और घर जाने के लिए कहता है। सिंडिरेल्ला को जिन्न अपनी शक्ति दुवारा पालक झपकते हुये घर पाहुचा देता है। घर के सभी लोग हैरान हो जाते है जब सिंडिरेल्ला को घर मे जिंदा देखते है। चाचा को इस बात पर गुस्सा आ जाता है कि घर मे यह लड़की कैसे आ गई और डंडा उठाकर मारने के लिए सिंडिरेल्ला के ऊपर चलता है जैसे ही डंडा मारता है तो सिंडिरेल्ला के आगे जिन्न प्रकट हो जाता है और हंसने लगता है सिंडिरेल्ला का चाचा बुरी तरह से डर जाता है और चीखने चिल्लाने लगता है कि ये क्या बला है। जिन्न घर मे रह रहे सभी लोगो को चेतावनी देता है कि किसी ने भी मेरी बहन की तरफ को आँख उठाकर देखा तो मे उसे जिंदा ही खा जाऊंगा। यह बात सुनकर सभी लोग और भी ज्यादा डर जाते है। 

जिन्न सबसे पहले चाचा की धुनाई करता है और उसके बाद सभी सदाशयों की और सिंडिरेल्ला की सारी जायदात दुवारा से वापस ले लेता है। चाचा और उसके सारे लोगो को सिंडिरेल्ला का भाई नौकर बना कर रखता है और एक सुंदर से राजकुमार से सिंडिरेल्ला की शादी करबा देता है सिंडिरेल्ला का जीवन खुशी खुशी काटने लगता है जब भी सिंडिरेल्ला को कोई मुसीबत आती मुसीबत आने पहले उसका भाई जिन्न उस मुसीबत को मारकर भागा देता था और अपनी बहन को भनक भी नहीं होने देता था। cinderella ki zindagi me aaya ek jinn, cinderella story in hindi, सिंडिरेल्ला की कहानी। 


दोस्तो आपको यह कहानी कैसी लगी हमे कमेंट मे जरूर बताए अगर आप इस तरह की bhoot ki kahani पड़ना पसंद करते है तो हमारे ब्लॉग का नाम ध्यान से याद रखे अगर आपको किस तरह की कहानिया पड़ना है तो हमे कमेंट मे जरूर बताए हम आपकी इछा को जरूर पूरा करेंगे और साथ ही इस कहानी को शेयर करना न भूले



No comments:

Post a Comment