Bhooton Ko Samne Se Mahsoos Kiya Hai In Bhartiye Aphsaro Ne, Bhoot Ki Sachhi Kahani 2018 - Bhoot ki kahani

Wednesday, November 21, 2018

Bhooton Ko Samne Se Mahsoos Kiya Hai In Bhartiye Aphsaro Ne, Bhoot Ki Sachhi Kahani 2018

भूतो को सामने से महसूस किया है इन भारतीय अफसरों ने, भूत की सच्ची कहानी 2018 
दोस्तों भारत एक ऐसा देश है जहा पर अदृश्य शक्ति यानी भूतो पर विश्वाश किया जाता है। भारत में रहने वाले पड़े लिखे लोग शायद bhooton पर विश्वाश नहीं करते होंगे लेकिन कभी कभी ऐसा वाकया घटित हो जाता है जो हमें सोचने पर मजबूर कर देता है। हम यह सोचने पर मजबूर हो जाते है कि आखिर यह घटना घाटी कैसे आइये जानते है इस सच्ची घटना के बारे। 
Bhooton Ko Samne Se Mahsoos Kiya Hai In Bhartiye Aphsaro Ne, Bhoot Ki Sachhi Kahani 2018
bhootkikahani.in
लोनावाला की sachhi bhoot की घटना 

Horror Story In Hindi लोनावाला मुंबई में स्तिथ सुदूर इलाके में मौजूद है। यह दो प्रमुख शहरों पुणेऔर मुंबई के बीच, पुणे से 64 किमी और मुंबई से 96 किमी की दूरी पर स्थित है। आज का लोनावला कभी यादव वंश का एक भाग था। मुग़लों ने इस स्थान के सामरिक महत्व को देखते हुए इसे एक लंबे समय तक अपने कब्ज़े में बनाए रखा। इस स्थान पर उपस्थित किलों और मावला योद्धाओं ने मराठाओं और पेशवा साम्राज्य के इतिहास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। लोग अक्सर यहाँ प्रकिर्तिक सौन्दर्य का मज़ा उठाने आते है लेकिन यह भी सच्चाई है कि यहाँ पर bhoot preto से सम्बंधित घटना घटती रहती है। भारतीय पेरानॉर्मल टीम के अफसर स्थेलकर यह दावा करते है कि वह पिछले 8 सालो से bhooto पर रिसर्च कर रहे है। इस टीम का मुख्य काम भूतो की पेरानॉर्मल एक्टिविटीज को अपने कमरे में कैप्चर करना होता है। Bhooton Ko Samne Se Mahsoos Kiya Hai In Bhartiye Aphsaro Ne, Bhoot Ki Sachhi Kahani 2018
Bhooton Ko Samne Se Mahsoos Kiya Hai In Bhartiye Aphsaro Ne, Bhoot Ki Sachhi Kahani 2018
bhootkikahani.in




div style="text-align: justify;"> Bhoot Ki Khani स्थेलकर ने बताया है कि लोनावाला में बाकई में भूतो के होने का एहसास होता है क्यकि स्थेलकर ने 8 सालो तक यहाँ पर भूतो के बारे में रिसर्च किया था। हम बताते है आपको की उनके साथ क्या घटना घाटी थी।स्थेलकर अपनी टीम के साथ लोनावाला के लिए चल दिए थे। स्थेलकर के साथ 4 लोग और भी थे जो एक छोटी सी कार में बैठे थे। लोनावाला इलाके में पहुंचते ही वह अपनी कार से सिगरेट पीने के लिए उतारते है वे सब लोग वहा खड़े थे जहा पर दिन में लोग काफी मात्रा में घूमने के लिए आते है। वह अपनी सिगरेट जलाकर उसको पीने लगते है उस समय करीब लगभग 12 बजे हुए थे उस जगह पर तेज हवाएं चल रही थी। अचानक स्थेलकर ने देखा की एक शराब की बोतल लुढ़कती हुई तेज़ी से उनकी और आ रही है लेकिन स्थेलकर ने यह समझा की कुछ मौसम की वजह या तेज़ हवा की वजह से ऐसा हुआ है। स्थेलकर ने इस बात को पूरी तरह से इग्नोर कर दिया। 
Bhooton Ko Samne Se Mahsoos Kiya Hai In Bhartiye Aphsaro Ne, Bhoot Ki Sachhi Kahani 2018
bhootkikahani.in





Drawani kahani in hindi तेज़ हवा के कारण वह सभी लोग अपनी कार में बैठ गए और बात चीत करने लगे कुछ समय ही बीतता है की कार के शीशो पर नॉक करने की आबाज दो बार आती है। कार में बैठे सभी लोग हैरान हो जाते है कि कार के शीशे पर किसने नॉक किया है और कार से बहार निकल कर देखते है तो वहा पर दूर दूर तक कोई नहीं था। दुबारा से अपनी कार में बैठ जाते है और पता करने की कोशिश करते है की आखिरकार ऐसा कैसा हुआ।स्थेलकर के पास एक ऐसी ऐप मौजूद थी जिससे पेरानॉर्मल एक्टिविटीज की आबाजो का को रिकॉर्ड किया जा सकता था। इस एप को अमेरिकनों ने बनाया था जो कि इस तरह की घटना के लिए काम आ सके। स्थेलकर को उस एप के जरिये यह पता लगा की वहा पर कोई बंगाली औरत की aatma है जो उनसे बात करना चाहती है। स्थेलकर ने उस एप के जरिये रिकॉर्डिंग को सुना तो उसमे ख़राब आबाज में एक बंगाली औरत की आबाज सुनाई दे रही थी। यह आबाज इतनी साफ नहीं थी लेकिन समझ में आ रही थी। स्थेलकर उस औरत से कुछ और बाते पूझना चाहते थे। स्थेलकर ने उस औरत से पूझा की तुम्हे मुक्ति चाहिए। 
Bhooton Ko Samne Se Mahsoos Kiya Hai In Bhartiye Aphsaro Ne, Bhoot Ki Sachhi Kahani 2018
bhootkikahani.in



कुछ देर बाद यह आबाजे आना बंद हो गई और darawni सी आबाजे इस एप रिकॉर्डर से आ रही थी उसके बाद उन आबाजो का भी आना बंद हो गया। सब कुछ पूरी तरह से नार्मल हो गया। स्थेलकर वहा से चले आये और उन्होंने ने यह अनुभव किया की पेरानॉर्मल एक्टिविटीज होती है। Bhooton Ko Samne Se Mahsoos Kiya Hai In Bhartiye Aphsaro Ne, Bhoot Ki Sachhi Kahani 2018
Bhooton Ko Samne Se Mahsoos Kiya Hai In Bhartiye Aphsaro Ne, Bhoot Ki Sachhi Kahani 2018
bhootkikahani.in


दोस्तों आपका क्या मानना है इस कहानी के बारे में हमें अपनी राय कमेंट बॉक्स में जरूर दे अगर आप bhoot ki kahani और भी पड़ना चाहते है तो हमारे ब्लॉग सब्सक्राइब कर ले और इस कहानी को आप अपने दोस्तों के  करे आपका दिन शुभ हो धन्यवाद। 

भूत की कहानी 





No comments:

Post a Comment