ruhani bhatakti aatma ki kahani, bhoot ki kahani - Bhoot ki kahani

Saturday, April 6, 2019

ruhani bhatakti aatma ki kahani, bhoot ki kahani

रूहानी भटकती आत्मा की कहानी, भूत की कहानी 

दोस्तों आप सभी का हमारे ब्लॉग में बहुत- बहुत स्वागत है। आज हम आपको बताने जा रहे है एक ऐसी आत्मा की कहानी के बारे में जो एक भटकती आत्मा की कहानी है। आइये जानते है इस कहानी के बारे में। 
ruhani bhatakti aatma ki kahani, bhoot ki kahani
bhootkikahani.in
पहाड़ी इलाके में एक औरत अपने परिवार के साथ रहा करती थी। इस औरत का नाम (काल्पनिक नाम ) रानी था। यह औरत झोपड़पट्टी में रह कर अपना जीवन गुजर करती थी। झोपड़पट्टी में औरत अपने पति (काल्पनिक नाम) रमेश के साथ रहा करती थी। रानी की शादी को 20 साल हो गए थे लेकिन उसको एक भी संतान नहीं थी। रानी को बच्चों से बहुत ही ज्यादा लगाओ था मैं किसी के बच्चे को देखा करती तो उसे दुलार ने लग जाती। रानी को 20 साल तक संतान ना होने के कारण रानी इस बात पर दुखी रहा करती थी।

रानी संतान प्राप्ति के लिए अक्सर तांत्रिकों के पास जाया करती थी। रानी को उम्मीद थी कि शायद झाड़-फूंक से मेरे घर में किसी संतान का जन्म हो जाए। इसी उम्मीद से वह तांत्रिकों के पास जाया करती थी। लेकिन तांत्रिकों के पास जाने के बाद भी रानी को कोई संतान नहीं हुई। इसी बात पर रानी अक्सर दुखी रहा करती थी कि उसके घर में एक भी संतान नहीं है। रानी ने उम्मीद ही छोड़ दी थी कि कभी उसके संतान प्राप्त होगी। दुखी होकर मैं अपने पति से भी झगड़ा कर देती थी लेकिन पति समझदार होने के कारण मैं उसके दुख को समझता था लेकिन उससे कुछ नहीं कहता था। ruhani bhatakti aatma ki kahani, bhoot ki kahani 
ruhani bhatakti aatma ki kahani, bhoot ki kahani
bhootkikahani.in
रमेश के करीबी दोस्त के यहां एक शादी का फंक्शन था। रमेश अपने दोस्त की शादी के फंक्शन में जाता है और अनशन खत्म होने के बाद रमेश अपने करीबी दोस्त से अपने दिल की बात बताता है। रमेश का करीबी दोस्त रमेश को एक राये देता है कि वह तांत्रिको के पास जाना जोड़कर किसी अस्पताल से मेडिकल अपनी पत्नी का मेडिकल गर्भ धारण करा ले इससे सारी परेशानिया ख़त्म हो जाएँगी और तुम्हारी पत्नी भी खुश रहेंगी और तुम्हे बच्चा भी मिल जायेगा। अपने दोस्त की ये बात सुनकर रमेश घर को आ जाता है। अपनी पत्नी को यह बात बताता है। उसकी पत्नी माँ जाती है। एक अस्पताल को रमेश और रानी निकल पड़ते है और मेडिकल गर्भ धारण करा लेते है। रमेश की पत्नी को गर्भ में बच्चा स्थापित कर दिया जाता है। 9 महीने के बाद रानी को एक बच्ची होती है।
ruhani bhatakti aatma ki kahani, bhoot ki kahani
bhootkikahani.in
रमेश और रानी बड़े ही खुश थे कि उनके घर में एक बच्चे ने जन्म लिया है। रानी बेहद खुश रहने लगती है और अपनी बच्ची से अपनी जान से भी ज्यादा प्यार करने लगती है हर माँ अपने बच्चे से अपनी जान से ज्यादा प्यार करती है। रानी ने अपनी बच्ची का नाम चाँदनी (काल्पिनिक नाम ) रखा था। चाँदनी 7 साल की हो जाती है। रमेश अपनी पत्नी और बच्ची को लेकर किसी रिस्तेदारी में जाने के लिए निकल जाते है। रमेश और रानी को क्या पता था कि उनके साथ क्या घटना घटने वाली है। जिस बस में रमेश और रानी समेत उनकी बच्ची बैठी थी।  उस बस के अगले टायर में धमाका हो जाता है और वो बस अपना नियन्त्र खो देती है इससे वो बस खाई में गिर जाती है। उस बस में बैठे यात्री कुछ मर जाते है और कुछ तड़प रहे होते है। ऐसे में रानी भी गंभीर हालत में होती है थोड़ा सा तो रानी को होश था लेकिन वह उठ नहीं पा रही होती है। ruhani bhatakti aatma ki kahani, bhoot ki kahani 
ruhani bhatakti aatma ki kahani, bhoot ki kahani
bhootkikahani.in
जब रानी को याद आता है की उसकी बच्ची कहा पर है और उसका पति कहा पर है तो वो झटपटाने लगती है और चीखती है जब रानी को नज़ारा दीखता है की उसकी बच्ची और उसका पति अब इस दुनिया में नहीं है तो रानी और जोर से चीखने लग जाती है। खाई में गिरी बस के लिए कोई जल्दी मदद भी नहीं पहुँचती है जो लोग वह पर तड़प रहे थे उनकी दर्दनाक मौत हो रही थी। इस तरह से रानी ने भी अपनी बच्ची चाँदनी को याद करते करते तड़प तड़प कर अपना डैम तोड़ दिया। कहते है कि जब कोई मरने से पहले किसी की इच्छाएं रह जाती है तो उसकी aatma हमेशा के लिए भटकती रहती है। ऐसा ही रानी के साथ हुआ मरने के बाद रानी की आत्मा भटकने लगी। कहते है जहा पर रानी की मौत हुई थी। उस रोड से गुजरने वाले वाहनों के ड्राइवरों को वाहा से चीखने की आबाजे सुनी यह आबजे इतनी दर्दनाक थी एक बार इन आबाजो को कोई सुनले तो वो आसानी से नहीं भूल पाए।


ruhani bhatakti aatma ki kahani, bhoot ki kahani
bhootkikahani.in
कुछ लोगो तो उस रोड पर एक भटकती आत्मा को भी देखा उनका कहना था की वह औरत चीखती चिल्लाती और बेटा बेटा चिल्लाती थी। लोगो को कुछ महीने बाद पता चला की वहा पर किसी अज्ञात महिला नहीं घूमती है वल्कि वह एक आत्मा है। रात के समय में लोगो ने उस रोड पर डर के मारे आना ही छोड़ दिया था। सभी लोगो का कहना था उस हादसे में रानी की जान तो चली है लेकिन उस बच्ची के दुःख में रानी की आत्मा आज भी भटक रही है। रानी की आत्मा ने किसी को नुकसान तो नहीं पहुंचाया लेकिन ये किस्सा और इसका अनुभव एक darawna मंजर दिखाई देता है। ruhani bhatakti aatma ki kahani, bhoot ki kahani 

दोस्तों आपको यह कहानी कैसी लगी हमें कमेंट में जरूर बताये अगर आप इस तरह की कहानिया पड़ना पसंद करते है तो हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब कर ले और साथ ही अपने दोस्तों को शेयर करना न भूले आपका दिन शुभ रहे। 

दोस्तों क्या आपके साथ bhoot preto से रिलेटिड घटना घाटी है तो उस कहानी को हमारे ब्लॉग में शेयर कर सकते है हम उस पोस्ट को अपने ब्लॉग में प्रकाशित करेंगे भेजने के लिए हमारी ईमेल या कमेंट में भेजे धन्यवाद। 







20 comments:

  1. Can I simply just say what a comfort to discover somebody who truly knows what they're talking about over the internet.

    You definitely understand how to bring a problem to light and make it important.
    More and more people must read this and understand this side
    of your story. It's surprising you're not more popular given that you definitely have the gift.

    ReplyDelete
  2. Its like you read my mind! You appear to understand a lot
    about this, like you wrote the book in it or something. I feel that
    you just could do with a few percent to pressure the message house a bit, but other than that, this
    is wonderful blog. An excellent read. I will definitely be back.

    ReplyDelete
  3. My family members every time say that I am killing my
    time here at web, except I know I am getting know-how every day by reading
    such fastidious articles.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हमे आपके कमेंट बहुत पसंद आते है और हमारे लिए आपके इन कमेंट के जरिये नई ताकत मिलती है जो हम और भी अच्छा काम कर सके हमारी कहानी पड़ने के लिए बहुत- बहुत धनयाबाद।

      Delete
  4. This article will assist the internet users for setting up
    new blog or even a weblog from start to end.

    ReplyDelete
  5. Your style is unique in comparison to other folks I have read stuff from.
    Many thanks for posting when you have the opportunity,
    Guess I'll just bookmark this page.

    ReplyDelete
    Replies
    1. hamari kahani padne ke liye aapka dil se dhanyabad thanx for comment

      Delete
  6. co na potencje z apteki

    ReplyDelete
  7. This piece of writing provides clear idea designed for the new visitors of blogging, that
    really how to do blogging and site-building.

    ReplyDelete
    Replies
    1. apni ray dene ke liye aapka bahut bahut dhanybad. website ko kaise rank kiyta jaata hai hum is par kaam kar rahe hai jald hi aapko ek blog ke madhyam se batayenge.

      Delete
  8. Attractive section of content. I just stumbled upon your blog and in accession capital to assert
    that I get in fact enjoyed account your blog posts. Anyway I'll be subscribing to your augment and even I achievement you access consistently fast.

    ReplyDelete
    Replies
    1. thanx for comment sir hum jald hi is blog par daily update karne ka prayas karenge

      Delete
  9. It is not my first time to pay a quick visit this web site, i am browsing this web page dailly and take fastidious facts from here every day.

    ReplyDelete
    Replies
    1. sir hum bhi aapko daily dena ka prayas karte rahenge

      Delete
  10. My brother suggested I might like this website.
    He was entirely right. This post truly made my day.
    You can not imagine simply how much time
    I had spent for this info! Thanks!

    ReplyDelete
  11. aapke bhai ke hamari tarah se bahut bahut dhanyabad dil se

    ReplyDelete
  12. Thank you a bunch for sharing this with all folks you actually recognize
    what you are speaking about! Bookmarked. Kindly additionally talk over with my website =).
    We can have a hyperlink change agreement among us

    ReplyDelete