moral stories in hindi, Ishvar ka sath bhagwan ki kahani

            










दोस्तों हम हम आपको एक ऐसी moral stories in hindi के बारे में बताने जा रहे है जो ईश्वर पर विश्वाश कर लेता है तो ईश्वर उसका साथ कभी नहीं छोड़ते। आजकल सभी लोग भगबान को मानते है लेकिन सच्चे दिल से जो ईश्वर को फरियाद करता है उसकी फरियाद कभी खाली नहीं जाती। 


moral stories in hindi, ईश्वर का साथ 



एक बच्चा बहुत ही शानदार नसीब लेकर पैदा होता है जिसकी हाथों की लकीरों में भी ईश्वर का साथ लिखा हुआ था। उस बच्चे का नाम अमित रखा गया था। उस बच्चे पर ईश्वर की अपार कृपा थी। अमित जैसे-जैसे बड़ा होता गया वैसे-वैसे अमित का रुझान ईश्वर की पूजा अर्चना में होता गया।





अमित रोजाना ईश्वर की पूजा करता था और यह पूजा दिल से करता था। अमित ईश्वर की पूजा करते करते युवा अवस्था में आ जाता है। अमित का परिवार मध्यम वर्ग की श्रेणी में आता था। अमित के परिवार वाले भी अमित से और क्यों प्यार करते थे। अमित को धीरे धीरे एहसास होने लगा था कि कोई अदृश्य शक्ति उसके साथ खड़ी हुई है।



एक बार अमित के सपने में ईश्वर ने दर्शन दिए और कहा जब तू खुशहाल होगा तो चलते वक्त तेरे दो पैरों के निशान के साथ मेरे भी पैरों के निशान होंगे। ऐसा कहकर अमित के सपने से भगवान चले जाते है। साथ ही मैं सावधान कर कर जाते हैं कि कभी भी मेरी शक्ति को चेक करना हो तो अकेले में ही चेक करें और यह कहानी किसी को ना बताएं।






अमित जब सुबह को उठा तो अमित को भेज सपना पूरी तरह से याद था। और क्या क्या ईश्वर ने कहा था वह भी सब अमित को याद था। अमित ने उस सपने की सत्यता जानने के लिए एक गीली जमीन पर अकेले ही चला जाता है। जहां पर दूर-दूर तक कोई नहीं था। अमित ने अपने दोनों पैरों में से चप्पल निकालकर अलग रख दी और उस गीली जमीन पर चलने लगता है। अमित को अचानक क्या दिखाई देता है कि अमित के पैरों के निशान के साथ दो किसी और के पैर के निशान नजर आ रहे थे।











Ishvar ka sath bhagwan ki kahani
bhootkikahani.in

अमित यह देख कर हैरान हो जाता है। और थोड़ा सा डर जाता है। अमित यह सब देखकर इतना खुश हो जाता है कोई मेरे साथ खड़ा है। उसके साथ खड़ा होने वाला भी श्याम भगवान है। अमित की कुछ दिनों बाद नौकरी लग जाती है। और बह नौकरी करने के लिए रोजाना जाने लगता है। अमित अपनी नौकरी की तनख्वा से आधा पैसा अपने घर के खर्च के लिए और आधा पैसा जमा करने लगता है। अमित को ऐसा करते करते 3 से 4 साल हो जाते है। जो इंसानों में अमित ने पैसा इकट्ठा किया था वह प्रेशर एक कंपनी के शेयर में इन्वेस्ट कर देता है।

moral stories in hindi, सफलता कड़ी मेहनत मांगती है 



जिस कंपनी में अमित ने शेयर ने पैसा लगाया था देखते देखते उस कंपनी के शेयर बहुत तेजी से बढ़ने लगते हैं। कुछ समय बाद अमित उस कंपनी के सारे शेयर बेचकर जो पैसा अमित को मिलता है उस पैसे से अमित अपनी कंपनी खोल लेता है। ईश्वर की कृपा से अमित की कंपनी ग्रो करने लगती है और कुछ सालों में अमित करोड़पति हो जाता है। अमित का जीवन एक खुशहाल जीवन में बदल जाता है। जहां अमित को रूपए पैसे की कोई भी परेशानी नहीं थी। इस खुशहाल जीवन में भी अमित कभी भी ईश्वर का नाम लेना नहीं भूलता था। जब अमित को ईश्वर का रूप देखना होता था तो वह किसी समुंद्र के किनारे अकेले में घूमने चला जाता था। अमित की पैरों के निशान के साथ साथ ईश्वर की भी पैरों के निशान अमित को दिखाई देते थे।



कुछ समय बाद अमित की शादी हो जाती है। और बच्चे भी हो जाते हैं। अमित का हंसता खेलता परिवार को जाता है। अमित के पास अरबों ऐसो आराम था जिसके लिए उसके परिवार वालों को कोई भी परेशानी का सामना ना करना पड़े। कुछ समय के बाद अमित के कारोबार पर किसी की नजर लग जाती है। अमित का पूरा कारवार धीरे-धीरे घाटे में चला जाता है और अमित धीरे धीरे कंगाल होता चला जाता है। अमित के करनाल होता देख अमित के करीबी दोस्त और रिश्तेदार सभी अमित का साथ छोड़ने लगते हैं। एक दिन ऐसा जाता है कि अमित को कंगाल होते देख अमित की पत्नी भी अमित का साथ छोड़ कर चली जाती है।












Ishvar ka sath bhagwan ki kahani
bhootkikahani.in

अमित यह सब देख कर परेशान हो जाता है। एक सुबह घूमने के लिए समुद्र के किनारे पहुंच जाता है और वहां घूमने लगता है और क्या देखता है कि अमित को दो ही पैर नजर आ रहे थे सिर्फ अपने ही पैरों के निशान अमित को दिखाई दे रही थी अमित यह देख कर हैरान हो जाता है और घर वापस आ जाता है घर वापस आने के बाद अमित ईश्वर को कोसने लगता है और कहता है कि हे ईश्वर मैंने आपकी बचपन से पूछा कि सब ने मेरा साथ छोड़ दिया लेकिन आपने भी मेरा साथ छोड़ दिया।












Ishvar ka sath bhagwan ki kahani
bhootkikahani.in

एक रात जब अमित सो रहा था तो ईश्वर फिर उसके सपने में आते हैं और अमित से कहते हैं कि मैंने तेरा साथ कभी नहीं छोड़ा तो अमित पूछता है कि जब मैं परेशान तंगी में जीवन जी रहा था तब आप के पैरों के निशान मुझे नहीं दिखाई दे रहे थे। तो ईश्वर कहते हैं कि जब तू कंगाली हालत में जीवन गुजार रहा था। तब तू इतना कमजोर हो गया था कि मैंने तुझे अपनी गोद में उठा रखा था इसलिए तुझे दोपहर की निशानी नजर आ रहे थे वह पैर के निशान में रही थी तुझे मैंने अपनी गोद में उठा रखा था तभी तेरे पैरों के निशान नहीं दिखाई दे रहे थे यह मेरे पैरों के निशान थे। अमित से यह कहकर ईश्वर अमित के सपने से चले जाते हैं और जब अमित सुबह उठता है तो अमित को प्रस्ताव होता है कि मैंने ईश्वर के बारे में क्या क्या गलत कहा और ईश्वर से अमित ने क्षमा मांगी।



ईश्वर ने भी अमित को झमा कर दिया। अमित सब कुछ भूल कर दोबारा मेहनत करने लगता है और कुछ सालों के बाद वही मकाम हासिल कर लेता है।











Ishvar ka sath bhagwan ki kahani
bhootkikahani.in


दोस्तों इस कहानी का यह मतलब था कि सच्चे से ईश्वर की पूजा की जाए माना जाए तो इस वक्त उस व्यक्ति का कभी भी साथ नहीं छोड़ता है जो सच्चे दिल से ईश्वर की पूजा अर्चना करता है। महंती आदमी की कभी हार नहीं होती यह अमित ने दिखा दिया।



दोस्तों का आपको यह moral stories in hindi कैसी लगी हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं अगर आप इस तरह की कहानियां पढ़ना पसंद करते हैं तो हमारे ब्लॉक को सब्सक्राइब करें और साथ ही से लाइक करना न भूलें आपका दिन शुभ रहे। 


Post a Comment

21 Comments

  1. Awesome things here. I'm very glad to peer your post. Thanks so much
    and I am taking a look ahead to contact you. Will you please drop me a e-mail?

    ReplyDelete
  2. Really when someone doesn't be aware of afterward its
    up to other users that they will help, so here it happens.

    ReplyDelete
  3. hamari kahani padne ke liye aapka dil se dhanyabad thanx for comment

    ReplyDelete
  4. Hey! I could have sworn I've been to this website before but after checking
    through some of the post I realized it's new to me. Anyhow, I'm definitely glad I found it and I'll be bookmarking and checking back often!

    ReplyDelete
  5. ji sir aapko nayi se nayi jankari di jayegi hamare samne kuchh samashya hai kuchh samay ke baad hum daily update karenge.

    ReplyDelete
  6. I just could not depart your website before suggesting that
    I really loved the usual information an individual supply
    on your visitors? Is going to be back frequently in order to check up on new posts

    ReplyDelete
  7. If some one desires to be updated with most up-to-date technologies after that he must be go to
    see this site and be up to date daily.

    ReplyDelete
  8. It's awesome to go to see this web page and reading the views of all colleagues
    regarding this article, while I am also eager of getting experience.

    ReplyDelete
  9. It's fantastic that you are getting ideas from this article as well as from our argument made at this place.

    ReplyDelete
  10. Excellent blog you have here but I was wanting to know if you knew of any discussion boards that cover the same
    topics discussed in this article? I'd really like to
    be a part of community where I can get advice from other experienced people that share the
    same interest. If you have any suggestions, please
    let me know. Kudos!

    ReplyDelete
  11. thank you sir aapka dil se bahut bahut dhanyabad

    ReplyDelete
  12. I'm gone to convey my little brother, that he should
    also go to see this web site on regular basis to obtain updated from most recent news update.

    ReplyDelete
  13. Hmm it appears like your site ate my first comment (it was super long) so I
    guess I'll just sum it up what I submitted and say, I'm
    thoroughly enjoying your blog. I as well am
    an aspiring blog blogger but I'm still new to everything.

    Do you have any tips and hints for first-time blog writers?
    I'd genuinely appreciate it.

    ReplyDelete
  14. aap google par deshiseo.blogspot search kariye aapko sabse pahle hamara blog milega aap vaha par hamse kucch bhi jan sakte hai

    ReplyDelete
  15. Whoa! This blog looks exactly like my old one!

    It's on a totally different subject but it has pretty much the same layout and design. Great choice of colors!

    ReplyDelete