Khanddar padi bhootiya factory ki kahani 2018 bhoot ki kahani - Bhoot ki kahani- horror and scary stories in hindi

Tuesday, June 19, 2018

Khanddar padi bhootiya factory ki kahani 2018 bhoot ki kahani

खंण्डर पड़ी भूतिया फैक्ट्री की कहानी 2018 भूत की कहानी
Khanddar padi bhootiya factory ki kahani 2018 bhoot ki kahani
bhootkikahani.in
यह एक भूतिया फैक्ट्री की सच्ची घटनाएं भूत होते हैं या नहीं आपको भरोसा हो जाएगा इन घटनाओं के द्वारा। भूत प्रेतों की घटनाएं अक्सर हमारे जीवन में सामने आती हैं। जो भूतों का होने का होने का दावा करती हैं।

यह भूत की कहानी एक पुरानी पड़ी फैक्ट्री की है जो एक गांव में दूध फैक्ट्री के नाम से लगने आई थी। उस गांव में जंगली जंगल थे आबादी बहुत कम थी यह घटना कई साल पुरानी है। जमुनीपुर गांव में फैक्टरी का निर्माण होने लगा निर्माण होते होते यह फैक्टरी लगभग आधी से ज्यादा तैयार हो चुकी थी।

इस फैक्ट्री को बनाने में हजारों की संख्या में मजदूर काम कर रहे थे। फैक्ट्री धीरे-धीरे तैयार होने की ओर पर थी। तभी कुछ कारणों से इस फैक्टरी का निर्माण रोक दिया गया। कुछ सरकारी अड़चनों के आड़े आने से इस फैक्टरी का काम अधूरा का अधूरा छोड़ना पड़ा। 
Khanddar padi bhootiya factory ki kahani 2018 bhoot ki kahani
bhootkikahani.in
धीरे-धीरे यह फैक्ट्री एक खंडहर में तब्दील हो गई इस फैक्टरी के आसपास बहुत ही भयानक झाड़ झाड़ियां उगने लगी। कई सालों तक फैक्ट्री इस तरह से ही पड़ी रही। इस फैक्टरी के अंदर अच्छा खासा सफेद होने के कारण यहां बच्चे अक्सर खेलने आया करते थे जैसे गिल्ली-डंडा है या क्रिकेट इस फैक्ट्री में खेला करते थे।

बच्चे ज्यादा संख्या में जाते थे तो इस फैक्ट्री में रहने वाले भूत प्रेत होने का बच्चों को एहसास नहीं होता था लेकिन बच्चे जो मेन बिल्डिंग थी उसमें नहीं जाते थे। वहां के लोगों को मानना था कि बिल्डिंग में भूत पिशाच चुड़ैलों का वास रहता है। जो इस बात को जानते थे वह लोग इस फैक्ट्री की तरफ नहीं आते थे।

1 दिन बच्चे जब खेल रहे थे तो उनकी बोल ऊंची बिल्डिंग के छत पर गिर जाती है। लेकिन बच्चों में बहस हो रही थी कि उस बोल को वहां से कैसे लाया जाए और कौन इस बोल को वहां से लाएगा। उन बच्चों में से एक लड़का उस बोल को लाने के लिए तैयार हो गया। वह लड़का उस बिल्डिंग में चला जाता है।
Khanddar padi bhootiya factory ki kahani 2018 bhoot ki kahani
bhootkikahani.in
उस बिल्डिंग कितने फ्लोर थे वह लड़का धीरे-धीरे उस बिल्डिंग में चला जाता है और 1 फ्लोर से दूसरे फोटो पर चढ़ने लगता है। वह लड़का अकेले होने के कारण बहुत ही डर रहा था। उस लड़के का डर जब और भी बढ़ जाता है जब वह उड़ती हुई चमगादड़ों को देख लेता है। दूसरे फ्लोर की छत पर चमगादड़ों का पूरा ही घर था।

वह लड़का अपने डर को कंट्रोल में कर दो तीसरे फ्लोर में चला जाता है और वहां से कॉल को उठा लेता है और नीचे की ओर आने लगता है। जब वह लड़का नीचे की और आ जाता है तो उसे कुछ बदमाशी मार रही होती है एक कमरे में से। वह वहां जा कर देखता है तो उसके होश उड़ जाते हैं।

वहीं पर वह लड़का बेहोश हो जाता है। कुछ देर बाद होश आने पर वह लड़का चीखता हुआ भागता आता है। अपने दोस्तों को पूरी कहानी बताने लगता है। मैं लड़का बताता है कि वहां पर एक बुजुर्ग आदमी की लाश पड़ी थी जो कि एक टांग से और एक हाथ से विकलांग था। उस बुजुर्ग की लाश वहां पर सड़ रही थी।

उस लड़के को वहां पर किसी और का होने का एहसास हो रहा था। वह लड़का बता रहा था कि वहां पर किसी परछाई का होने का एहसास हो रहा था जो बार बार दिखाई दे कर ओझल हो रही थी। जिस बुजुर्ग की वहां से लाश मिली थी पुलिस के मुताबिक वह बुजुर्ग बहुत ही दूर का था। शायद वह बुजुर्ग रात में खंडहर फैक्ट्री में रुका हो।

Khanddar padi bhootiya factory ki kahani 2018 bhoot ki kahani
bhootkikahani.in
और फैक्टरी में रहने वाली भूत प्रेत आत्मा उड़ने उसको मार डाला हो। यहां के लोग बताते हैं कि इस फैक्टरी में ऐसे मामले बहुत बार हो चुके हैं। यह फैक्ट्री एक भूतिया फैक्ट्री में बदल चुकी है यहां पर बहुत ही कम लोग आते जाते हैं।

दोस्तों आपको यह कहानी कैसी लगी हमें कमेंट बॉक्स में जरुर बताएं यह भी जरूर बताएं कि आपको किस तरह की कहानी ज्यादा पसंद है। कहानी अच्छी लगी हो तो लाइक करें और शेयर करना ना भूलें।





4 comments: