bhoot ki kahani | khofnaak bhayanak gufa


           bhoot ki kahani खोफनाक भयानक गुफा 







bhoot ki kahani:-  दो शोधकर्ता जिनका काम ही शोध करना था। वो किसी न किसी चीज पर शोध करते रहते थे एक का नाम कमल और दूसरे का नाम रवि था। कुछ समय से वो दोनों पौराणिक तत्यों पर शोध कर रहे थे। उन्होंने पहाड़ी जंगलों में शोध करना सुरु कर दिया जहा पर कोई आदमी रहने की दूर वहा कोई भटकता नहीं था। 

bhoot ki kahani | khofnaak bhayanak gufa
bhoot ki kahani | khofnaak bhayanak gufa





काफी बड़ा जंगल था अपनी हिफाजत के लिए जो सामान चाहिए था वो साथ ले गए और अपने काम पे लग जाते खोज बीन को करते 1 महीना गुजर जाता हैं। बाद में उनकी नज़र एक गुफा पर पढ़ जाती हे जो बहुत पुरानी सी दिखती थी। उसको देखने को वह पहुंच जाते उस समय शाम हो चुकी थी इस बजह से वो गुफा नहीं घुसते अगले दिन  शुबह  उस  गुफा पर पहुंचते हैं। 

Read More:- ruhani-bhatakti-aatma-ki-ghost-stories


और अंदर की तरफ बढ़ने लगते हे और देखते की उस गुफा में थोड़ा थोड़ा पानी भरा हुआ था। वो धीरे धीरे अंदर की ओर जाने लगते हे उस गुफा में इतने मोड़ होते हे कि वो बहार आने का रास्ता तक भूल जाते हैं गुफा में अंदर की और और  जाने लग जाते हे थोड़ी देर बाद उन्हें कुछ कंकाल मिलते हैं दो तीन कंकाल आगे पड़े होते हे कुछ कंकाल जानवर के होते हैं। रवि, कमल आगे बढ़ते हैं 



Read More:- andhe ki aankh ka tara bani ye bhootni


तो अचानक बहा चमकदार उड़ कर आ जाती हैं। दोनों हड़बड़ा जाते कुछ दुरी पर उन्हें अंधेरे में रोने की आबाज सुनाई देने लगती हैं। जब वो दोनों वह जा कर देखते है तो वहा कोई ऐसी चीज नहीं यही जो वह पर रो रही हो कुछ देर बाद फिर दूसरी जगह से आबाज सुनाई देती हे जब वहा जाकर देखते तो उन्हें चुड़ैल का साया दिखाई देता हैं। bhoot ki kahani bhayanak gufa 



Read More:- dhongi baba ko bhoot ne shikhaya sabak


और गायब हो जाती हे दोनों सोचते हे कि यह हमारा कोई बहम होगा लेकिन थोड़ी देर बाद रोने की फिर से आबाज आती जब जा कर देखते हे तो उनके होश उड़ जाते क्योकि वो चुड़ैल उनके सामने खड़ी होती हैं। और वो दोनों वहा भागने की कोशिश करते लेकिन उन्हें बहार जाने का रास्ता नहीं मिल पा रहा था। और चीखने लगते हे कि कोई हमें बचा ले इतना डर जाते हे की उनकी हालत काफी ख़राब हो जाती हैं। डर के मारे गुफा के एक कोने में बैठ जाते हैं। 


फिर अचानक से कमल के शरीर में वो चुड़ैल घुस जाती हैं और रवि पर हमला कर देती हैं रवि को तड़पा तड़पा कर मार देती हैं और उसके शरीर को खाने लगती हे जब कमल के शरीर से जब बहार आती हे तो कमल को कुछ देर बाद होश आता है होश आने पर कमल रवि की ओर देखता तो उसके होश उड़ जाते और वो अपना मानसिक संतुलन खो बैठता हैं। कुछ दिन बाद कमल की भूख प्यास तथा डर से उसकी मौत हो जाती हैं। 







दोस्तो आपको ये कहानी कैसी लगी हमे कमेंट मे जरूर बताए अगर आप इस तरह की कहानियाँ पड़ना पसंद करते है तो हमारे ब्लॉग का नाम याद रखे ताकि आपको नई नई कहानियाँ पड़ने को मिलती रहे।



Post a Comment

0 Comments