haunted house bhoot ki kahani - Bhoot ki kahani- horror and scary stories in hindi

Saturday, April 6, 2019

haunted house bhoot ki kahani

              haunted house bhoot ki kahani 



haunted house bhoot ki kahani
bhootkikahani.in



              यह कहानी एक भूतिया महल की हैं। 





600सालो पहले इस महल में राज घरानो के राज परिबार रहा करते थे। जो दो भाई के परिबार व् एक चाचा का परिवार रहा करता था। सभी खुशहाल ज़िन्दगी गुजारा करते थे।  लेकिन इस परिवार में रहने बाला चाचा का परिवार अंदर खाने जलते थे। जो सामने झलक के नहीं आता था। जो पीठ पीछे सब कुछ हड़ब करने की सोचा करते थे। 






इनका चाचा अक्सर सभी को मारने का प्लान बनाता रहता था। लेकिन किसी भी प्लान में सफल नहीं हो पाता था। क्योकि परिवार का मुखिया काफी साबधानी पुर्बक रहा करता था। क्योकि कोई चूक या दुश्मन उन पर जानलेवा हमला न करदे। इसलिए उन पर कोई हमला करने की सोच भी नहीं सकता था। 









चाचा ज्यादा परेशान रहता था। की अपने भतीजो के परिवार को कैसे रास्ते से हटाया जाये। सारी जमीन महल दौलत मेरी हो जाये में अकेला राज करू। चाचा को एक दिन तांत्रिक बाबा का पता लगता हैं। जो तंत्र मंत्र विध्या से कुछ भी कर सकता था। चाचा चुप चाप किसी को बिना बताये बाबा के ठिकाने को निकल पढता हैं। बाबा का ठिकाना काफी घने जंगलों में था। जैसे चाचा बहा पंहुचा वह बाबा तपस्या कर रहा था। haunted house bhoot ki kahani.







तब तक चाचा वहा बैठा रहता हैं। जब बाबा की तपस्या ख़त्म हो जाती हैं तो बाबा चाचा को सारी जानकारी बताता हे जो चाचा के मन में चल रही होती हैं। तब चाचा उत्शाहीत हो जाता हैं। बाबा पे भरोसा करने लगता है। चाचा ने बाबा को सारी सच्चाई  बताई लेकिन बाबा ने मन कर दिया। बाबा ने कहा यह घिनोना काम में नहीं कर सकता क्योकि हमारे तंत्र मात्रा विध्या के कायदे कानून  होते हैं। 









चाचा हाथ जोड़कर कर बिनती करने लगा की मुझे उस राज्य पर राज करना हे तब तक में शांत नहीं बैठूंगा। बाबा बार बार  मना करता रहा। लेकिन कुछ देर बाद बाबा मान गया और कहने लगा मेरी एक शर्त हैं। चाचा बोला आपकी सारी शर्ते मानने को तैयार हूँ। बाबा बोला में अपने हाथों से तंत्र मात्रा की शक्ति से उस परिवार की हत्या नहीं कर सकता लेकिन एक काम जरूर कर सकता हूँ। 










बाबा - में तुम्हे तंत्र मत्र की शक्ति का ज्ञान दे सकता हु इतना तो में कर सकता हूँ। चाचा बाबा की बात को मान लेता हैं महल की तरफ आ जाता है। बाबा ने रात को 10 बजे के बाद 40 दिनों तक आना होगा  चाचा 10 बजे के बाद रोज रात को तांत्रिक के पास जाने लगता हैं। 40 दिन के बाद चाचा को तंत्र मंत्र की शक्ति का थोड़ा बहुत ज्ञान हो जाता हैं। जब वह महल आने को होता हे तो तांत्रिक चाचा को  समझाने की कोशिश करता हैं। कि तंत्र मंत्र की गलत इस्तेमाल आपकी जान भी ले सकता हैं। इतना सुनकर चाचा महल की और आ जाता हैं। haunted house bhoot ki kahani.












और कुछ दिन चाचा शांति से महल में रहता हैं। कुछ दिन बाद रात को तंत्र मंत्र की शक्ति से सारे परिवार वशीकरण करने की कोशिश करता हे और उसमे में सफल भी हो जाता हैं। परिवार के लोग गुमसुम से रहने लगते हैं। चाचा और ज्यादा आकर्षित होने लगते हैं। चाचा अब भी नहीं मानता वह तंत्र मन्त्रों की शक्ति का उपयोग करके सभी मारने तयारी करने लगता हैं। रात को मन्त्रों का उच्चारण कर रहा होता हें तो परिवार के मुखिया को ऐसा लगता हे कोई आदमी बढ़ बढ़ा रहा हो। bhoot ki kahani haunted house








जब महल के चारो तरफ देखता हे तो अचनाक उसकी नज़र एक कमरे में पढ़ती हैं। अंदर जा कर देखता हे तो उसका चाचा मन्त्रों का उच्चारण कर रहा होता हैं। इतना देख परिवार का मुखिया चोक जाता हैं। और पूछता हे तुम यहाँ क्या कर रहे हो चाचा घबरा जाता और बहाने बनाने लगता हैं। परिवार के मुखिया को चाचा पर शक होता हें और अपने भाई को बुलाता हैं। चाचा पकड़ कर बांध देते जिससे वो भागे न पीट पीट कर जब पूझा जाता हे तो चाचा अपनी जबान खोलता हे और सारी सच्चाई बता देता हैं। दोनों भाइयों आश्चर्य होता कि हमारा चाचा दोलत के नशे में हमारी जान का दुश्मन हैं। 







चाचा को एक कोठरी में बंद कर दिया जाता हे और खाना व् पानी भी नहीं दिया जाता जिससे चाचा की भूख प्यास से तड़प तड़प के उसकी मृत्यु हो जाती हैं। चाचा की आत्मा विकराल आत्मा रूप धारण कर लेती हैं। और महल में घूमने लगती हैं और कुछ दिनों बाद महल में से खतरनाक आबाजे आने लगती हैं। परिवार सारे सदस्य डर जाते हे और रात कमरों में बंद रहते हैं। परिवार का मुखिया इन आबाजो तंग आ गया था।   एक रात जब आबाजे आने लगी तो उन आबजो की तलाश करने लगा तलाश करते करते उस कोठरी के पास पंहुचा जब कोठरी का दरबाजा खोला तो वह चाचा लाश पढ़ी हुई थी लेकिन आबजे नहीं आ रही थी। थोड़ी देर बाद परिवार के मुखिया अचानक हमला होता हैं। 








परिवार का मुखिया इतने में सभल पता कि चाचा की आत्मा उस पर हॉबी हो जाती और दर्दनाक तरीके से उसकी जानले लेती हैं। सुबहः होते ही परिवार के मुखिया की तलश की जाती हैं।  तो उसकी लाश उस कोठरी में मिलती हैं। परिवार के मुखिया का अंतिम संस्कार कर देते हैं। और सारे परिवार के सदस्य सनझ जाते की परिवार की मुखिया की जान चाचा की आत्मा ने ली हे और उस महल से भागने की कशिश करते लेकिन चाचा की आत्मा ऐसा नहीं होने देती बारी बारी से एक -एक  की जान लेने लगती भागने की कशिश में परिवार के तीन सदस्य ही सफल हो पाते इस तरह उनकी जान बचती है वो सदस्य उस महल की और मूढ़ कर नहीं देखते। haunted house bhoot ki kahani.

दोस्तो आपको यह कहानी कैसी लगी हमे कमेंट बॉक्स मे जरूर बताए अगर आप इस तरह की कहानिया पड़ना पसंद करते है तो हमारे ब्लॉग का नाम ध्यान रखे अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तो के साथ शेयर करना न भूले आपका दिन शुभ रहे। 


No comments:

Post a Comment